fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

तेलंगाना में हॉनर किलिंग, दलित युवक का सवर्ण लड़की के साथ शादी करने पर, कर दी गई हत्या, लड़की का संघर्ष जारी

Honor-Killing-in-Telangana,-Dalit-Youth-killed-after-getting-married-with-upper-caste-girl,-girl-is-struggling
(Image Credits: Deccan Herald)

आज के समय में आधुनिक भारत में जब हम अपने आप को कहीं न कहीं पश्चिमी संस्कृति से जोड़ के देखते है। और अपने आप को खुली विचारधारा वाले बताते भी है। परन्तु इसके साथ साथ हम एक दोहरी मानसिकता के भी शिकार है। और इसी मानसिकता के कारण समाज में आज भी ऑनर किलिंग जैसी घटनाएं होती है। जो बेहद ही शर्मनाक है। आधुनिक भारत में ऐसी घटनाओ का घटित होना हमे हैरान कर देता है की क्या हम आज ऐसे समाज में रहते है। जहां हमें अपने मनपसंद का जीवन साथी चुनने का भी हक नहीं है।

Advertisement

ऐसी ही एक घटना के बारे में हम आपको बताने वाले हैं। यह घटना तेलंगाना के नालगोंडा की ही जहां पांच महीने पहले ऑनर किलिंग की घटना सामने आई थी। जब 23 वर्षीय युवक की सिर्फ इसलिए हत्या कर दी गई थी, क्योंकि उसने सवर्ण लड़की अमृता से शादी की थी। दरअसल लड़की का पिता नहीं चाहता था कि उसकी बेटी एक दलित के बच्चे की मां बने।

महिला के पिता ने अमृता को ऐसा करने से रोकने के लिए गर्भपात कराने की भी धमकी दी थी, पर अमृता ने इसकी परवाह नहीं की। जब वह 4 महीने की गर्भवती थी, उसके पति प्रणय को मार डाला गया था। उसके ससुराल वालों को धमकियां भी दी गई। लेकिन इतना कुछ होने के बाद भी अमृता कमजोर नहीं पड़ी और बच्चे को जन्म देने पर डटी रही।

आज से 4 महीने पहले 30 जनवरी को उसने बेटे को जन्म देकर अपना संघर्ष अंजाम तक पहुंचाने की दिशा में कदम बढ़ा लिया है। वहीं इस घटना को सोशल मीडिया जातिवाद पर जीत की मिसाल के तौर पर पेश किया जा रहा।

सोशल मीडिया पर हैशटैग # इस तस्वीर को देखकर मुस्कराइए वायरल हो रहा। दैनिक भास्कर ने हैदराबाद के अस्पताल में भर्ती अमृता से ऑनर किलिंग पर बात की। स दौरान अमृता ने बताया, ‘मेरे अब दो ही मकसद हैं. बेटे की अच्छी परवरिश और प्रणय को न्याय दिलवाना.’ उन्होंने बताया कि मैं बेटे को सिर्फ और सिर्फ भारतीय बनने के लिए कहूंगी, जो जाति, धर्म की बात न करे. शोषित लोगों की मदद करे और अन्याय से लड़े.


जब अमृता से पुछा गया की वो भविष्य में अपने बेटे को कैसे बताएंगी कि उसके पिता को किन लोगों ने मारा? इस पर अमृता ने कहा की, समाज में जाति, क्षेत्र, धर्म के आधार पर जहर फैलाने वाले लोग ही ऐसा करते हैं।

वैसे तो हम भारत में समानता के अधिकार का गुणगान करते नहीं थकते हैं। लोगो द्वारा बड़ी बड़ी बातें भी की जा जाती है। परतु आज भी हमारे समाज में एक वर्ग ऐसा है जिसे समाज का अभिन्न अंग नहीं माना जाता है। हम अमृता के इस कदम की सरहाना करते हैं। और हम यह उम्मीद करते हैं की इससे आने वाले समय में लोग जाति आधारित भेदभाव के खिलाफ अपनी आवाज मजबूत करेंगे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved