fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

हिमाचल प्रदेश में दलित अध्यापक पर डंडे से प्रहार कर किया घायल, अध्यापक को जातिसूचक शब्द भी बोला

In-a-state-of-Himachal-Pradesh,-Dalit-teacher-was-attacked-by-a-stick,-also-spoke-caste-related-word-to-the-teacher
(Image Credits: Caravan Daily)

दलित उत्पीड़न के मामले में देखा जाए तो ना ही सरकार कुछ कर रही है ना ही पुलिस सुरक्षा प्रदान कर रही है। राह चलते दबंग या सवर्ण जाति के लोग दलितों पर प्रहार कर देते है और उन्हें जातिसूचक शब्द बोलते है। ना जाने क्यों दलित समाज से सवर्णो इतने गुस्सा है की बिना बात उन्हें प्रताड़ित करते है। अपने आप को सबसे ऊपर मानने वाले सवर्ण जाति लोगो को यह गवारा नहीं की दलित समाज के लोग उनके आस पास भी रहे।

Advertisement

यहाँ तक की बच्चो को पढ़ाने वाले शिक्षक भी अब सुरक्षित नहीं। जो बच्चो को ज्ञान दे सही राह पर चलना सिखाये अगर वही सुरक्षित नहीं तो फिर प्रशासन पर सवाल उठाना तो लाजमी है।

ऐसी घटना हिमाचल प्रदेश की है जहाँ नालागढ़ के पहाड़ी क्षेत्र राम शहर के लोहारघाट गांव में एक दलित अध्यापक पर जातिसूचक शब्द कहकर घायल करने का मामला सामने आया है। पीड़ित अध्यापक ने स्थानीय व्यक्ति पर डंडों से प्रहार और जातिसूचक शब्द कहने का आरोप लगाया है।

सूत्रों के मुताबिक पीड़ित दलित अध्यापक पर हमला उस समय हुआ जब वह स्कूल से छुट्टी होने के बाद अपने घर जा रहा था। उसी समय रास्ते में दीपचंद्र नामक एक व्यक्ति ने पहले तो अध्यापक का रास्ता रोका, इसके बाद उस पर डंडे से प्रहार कर घायल कर दिया। अध्यापक के सिर और पैर पर गंभीर चोट आई है।

इस दौरान पीड़ित अध्यापक की चीख-पुकार सुन आसपास के लोग तुरंत मौके पर इकट्ठा हो गए। स्थानीय लोगों ने अध्यापक को दीपचंद्र के चंगुल से छुड़ाया और तुरंत उसे इलाज के लिए राम शहर अस्पताल ले गए, जहां से उसे बेहतर इलाज के लिए नालागढ़ अस्पताल रेफर कर दिया गया।


देखा जाए तो दलित वर्ग के लोग कही भी सुरक्षित नहीं है। चाहे वह कही भी हो सवर्ण जाती या दबंगो द्वारा प्रताड़ित किये जाते है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved