fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

कांशीराम के संरक्षण में राजनीति की करी शुरआत, चार बार बनी उत्तर प्रदेश की मुख़्यमंत्री

In-the-conservation-of-Kanshiram,-the-curse-of-politics-begins,-the-Chief-Minister-of-Uttar-Pradesh,-made-four-times
(Image Credits: India Today)

15 जनवरी 1956 को मायावती का जन्म हुआ। श्रीमती सुचेता कृपलानी अस्पताल, नई दिल्ली में एक हिन्दू जाटव दलित परिवार में जन्मी मायावती भारतीय राजनीतिज्ञ एवं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्षा है। मायावती की पार्टी भारतीय समाज के सबसे कमजोर वर्गों- बहुजनों या अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों, अन्य पिछड़ा वर्ग और धार्मिक अल्पसंख्यकों के जीवन में सुधार के लिए सामाजिक परिवर्तन के लिए एक मंच पर केंद्रित है।

Advertisement

दलित राजनीति की पुरोधा भारतीय राजनीति में अपना दखल रखने वाली इस दलित महिला ने चार बार उत्तर प्रदेश के मुख़्यमंत्री पद की बागडोर संभाली। मायावती का बचपन बहुत ही आभाव से गुजरा था, परिवार के पुत्रों को प्राइवेट स्कूलों मे भेजा गया था, जबकि बेटियां ” कम प्रदर्शन वाली सरकारी विधालयों ” में गई थीं. मायावती 6 भाई और 2 बहनें हैं।

अपने जीवन के शुरआत में मायावती जे जे कॉलोनी दिल्ली के एक स्कूल में शिक्षण का कार्य किया। वर्ष 1977 में कांशीराम के सम्पर्क में आने के बाद उन्होनें एक पूर्ण कालिक राजनीतिज्ञ बनने का फैसला लिया।

कांशीराम के सरक्षण के अंतर्गत मायावती उस वक्त उनकी कोर टीम में शामिल रहीं, जिसके बाद वर्ष 1984 में बसपा की स्थापना की गई। इसके उपरांत उन्होंने 1985 में पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

इसके बाद दूसरी बार 1997 में और तीसरी बार 2002 में भी मुख्यमंत्री बनी, लेकिन इन तीनों बार वे अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सकी। 2007 में वह चौथी बार मुख्यमंत्री पद के लिए निर्वाचित हुई और 2012 तक अपना कार्यकाल पूरा किया।


(News Source: Newstracklive)

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved