fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

योगी की पुलिस ठगी रोकने के बजाय लगा रही सावधानी का बोर्ड, जानिए क्या है पूरा मामला

Instead-of-stopping-the-fraud,-Yogi-police-is-putting-board of-precautions,-know-what-is-the-whole-matter
(image credits: business standards)

इस समय यूपी में पुलिस ठगी रोकने के बजाय लोगो को ठगी से बचने की हिदायत दे रही है। योगी सरकार में पहले भी गुंडागर्दी और ठगी मौजूद थी और अब भी मौजूद है। इन मामलो में योगी सरकार कही भी कामयाबी हासिल नहीं कर पाई। योगी सरकार यूपी में क्राइम पर लगाम नहीं लगा सकी है। ऐसे में पुलिस भी चोरी और ठगी को रोकने के बजाय पोस्टर लगा कर लोगो को चेतावनी दे रहे है। 

Advertisement

पुलिस विभाग अपराधियों पर कार्रवाई न करके ठगी से होशियार रहने के बोर्ड लगाकर लोगों को सचेत कर रही है। उत्तर प्रदेश के मथुरा में पुलिस ने हथिया गांव में कई बोर्ड जगह-जगह लगवा दिए हैं, ताकि लोग सजग हो जाएं। पुलिस का कहना है कि अगर किसी बाहरी व्यक्ति को इन गांवों में जाना है तो पहले स्थानीय पुलिस को इसकी जानकारी दें।

पुलिस की मानें तो यह वो गांव हैं, जहां सबसे ठग रहते हैं और देशभर में लोगों को ठगी का शिकार भी बनाते हैं। लेकिन यह अलग-अलग तरीके से ठगी कर रहे हैं। ऐसे में इनके ऊपर समय-समय पर कार्रवाई भी होती है, लेकिन यह अपनी हरकत से बाज नहीं आते हैं। गोवर्धन के क्षेत्राधिकारी विजय मिश्रा ने बोर्ड लगवाने की बात स्वीकार करते हुए कहा, “हमने लोगों को सचेत रहने के लिए बोर्ड लगवाएं हैं। जब उनसे पूछा गया कि आप इस पर कार्रवाई न करके ऐसे बोर्ड लगवाकर कानून-व्यवस्था की क्या इमेज बना रहे हैं तो इस उन्होंने बात करने से इनकार कर दिया।”

बरसाना के थानाध्यक्ष प्रदीप कुमार ने कहा कि बाहर के लोग यहां घूमने आते हैं, वे लोग ठगी का शिकार हो जाते हैं। इसीलिए ऐसे बोर्ड की जरूरत पड़ी है। कई प्रकार की ठगी यह लोग कर चुके हैं। बहुत सारे लोगों को इनके कारण परेशानी हुई है।

उन्होंने बताया कि अब इन्होंने ठगी का तरीका बदल लिया है। ठगी के नए तरीके के तहत यह ठग एक वेबसाइट बनवाते हैं। वेबसाइट पर सस्ता लोहा, सोना, सीसीटीवी, जनरेटर, कार, बाइक, कोयला और स्क्रैप बेचने की बात कहते हैं। रेट ऐसे बताए जाते हैं कि 400-500 किलोमीटर दूर बैठा व्यापारी लालच में फंस जाता है। फिर शिकार को गांव में या उसके आसपास बुलाकर लूट लेते हैं। इसी कारण लोगों के लिए अलार्म के रूप में यह बोर्ड लगाए गए हैं, ताकि लोग आसानी से आएं-जाएं।


हथिया गांव के पूर्व प्रधान बलदेव सिंह का कहना हैं की, “हमारे गांव के कुछ 10-15 लड़के हैं जो विशेष प्रकार से ठगी करते हैं। ये लोग मोबाइल में संदेश भेजकर लोगों को परेशान करते हैं। यहां पर कई बार व्यापारी भी ठगी का शिकार हो गए हैं। ये उन्हें मोबाइल के माध्यम से संदेश भेजते हैं। सस्ता समान का लालच देते हैं, जिससे वह लोग भागे चले आते हैं। बाद में उन्हें परेशानी उठानी पड़ती है।”

उन्होंने कहा, “इनकी ठगी रोकने के लिए हमने पुलिस से कई बार कहा है। वह लोग जब आते हैं, तब यह लोग कहीं गायब हो जाते हैं। इनमें से कुछ लोग जेल भी हो आए, लेकिन अभी सुधार नहीं आ रहा है।” पूर्व प्रधान ने बताया कि पुलिस प्रशासन ने कई चौराहों पर ऐसे बोर्ड के माध्यम से लोगों को सतर्क कर रखा है।

देखा जाए तो पुलिस को कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए परन्तु यहाँ वह सिर्फ बोर्ड पर एक पोस्टर के जरिये लोगो को सचेत करने में लगी है। आखिर योगी सरकार के राज में इस प्रकार की ठगी पर अभी तक कोई रोक क्यों नहीं लग पायी है। जहाँ योगी सरकार अपनी पुलिस को दुरुस्त करने में लगी है तो वहीँ कुछ पुलिस ने हाथ खड़े कर अलग ही रास्ता निकाल लिया है। 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved