fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

RBI से धन लेने पर ओवैसी ने मोदी सरकार को घेरा, कही यह बड़ी बात

(image credits: news18.com)

मोदी सरकार के आरबीआई से धन लेने के मामले में विपक्षी पार्टियों ने उन्हें पूरी तरह घेर लिया है। केंद्र सरकार अब आरबीआई के लाभांश और अधिशेष कोष में हस्तांन्तरित कर सकती है, इसके लिए आरबीआई ने भी मोदी सरकार को मंजूरी दे दी है। ऐसे में AIMIM के अध्यक्ष ने विपक्षी पार्टियों के साथ मोदी सरकार को लताड़ा है। 

Advertisement

भारतीय रिजर्व बैंक यानि आरबीआई ने केंद्र सरकार को लाभांश और अधिशेष कोष के मद से 1.76 लाख करोड़ रुपये हस्तांतरित करने के निर्णय को मंजूरी दे दी है ताकि राजकोषीय घाटे को बढ़ाए बिना अर्थव्यवस्था को रफ्तार दी जा सके।

AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने आरबीआई से धन लेने पर मंगलवार को केंद्र सरकार को आड़े हाथ लिया। हैदराबाद से लोकसभा सदस्य ओवैसी ने कहा, ‘‘ मोदी सरकार पहली सरकार है जो आरबीआई के लाभांश का 99.99 फीसदी ले रही है। पहले, सरकार 50 फीसदी लाभांश लिया करती थीं।’’ उन्होंने राजग सरकार पर नौकरियां सृजित करने में नाकाम रहने और ध्यान को भावनात्मक मुद्दे की ओर मोडऩे का आरोप लगाया। ओवैसी ने आरोप लगाया कि सरकार लोगों का ध्यान गाय जैसे भावनात्मक मुद्दों और उनके ‘तीखे’ बयानों की तरफ मोडऩे की कोशिश कर रही है।

उन्होंने कहा, ‘‘ मेरे तीखे भाषणों से किसी का भी पेट नहीं भरेगा। रोजगार सृजित करना प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी है।’’ सांसद ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ पेट भरना और नौकरी देना श्रीमान मोदी का काम है। मेरा काम उनसे पूछना, उन्हें बताना, और उन्हें आइना दिखाना है। वे अब तक विफल साबित हुए हैं।’’

इस समय भारत आर्थिक मंदी से जूझ रहा है ऐसे में आरबीआई के लाभांश और अधिशेष में हस्तांतरित करना, देश को आर्थिक रूप से और भी कमजोर कर सकता है। पहले ही मोदी सरकार के बड़े फैसलों के चलते ऑटो सेक्टर में भारी मंदी का दौर देखने को मिल रहा है। ऐसा न हो की मोदी सरकार का यह फैसला भी आम जनता के लिए सिर्फ एक मुसीबत बन जाए। 


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved