fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

आदिवासी और दलित संगठन के लोगो ने आज भारत बंद का किया एलान

People-of-Tribal-and-Dalit-organizations-today-announced-Bharat-Band
(Image Credits: News State)

आदिवासी और दलित संगठन के लोगो ने 5 मार्च को भारत बंद का एलान किया है। आदिवासी और दलित संगठन की मांग है की जिन पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का असर हुआ है केंद्र उनके अधिकारों की रक्षा के लिए दो अध्यादेश लेकर आए। इसमें पहला अध्यादेश आदिवासियों के वन अधिकारों से संबंधित है जबकि दूसरा यूजीसी फैकल्‍टी के पदों में सही प्रतिनिधित्‍व सुनिश्चित कराने का है।

Advertisement

दलित और आदिवासी संगठनो की यह भी मांग है कि सरकार संविधान में धारा 312 के तहत भारतीय न्‍यायिक सेवाओं की स्‍थापना करे, ताकि उच्‍च न्‍याय व्‍यवस्‍था में एससी, एसटी, ओबीसी, अल्‍पसंख्‍यकों और महिलाओं को जगह मिल सके ।

कई बहुजन समाज के लोग भी इस भारत बंद का हिस्सा होंगे वह सुप्रीम कोर्ट द्वारा 13-सूत्रीय रोस्‍टर पर दायर पुनर्विचार याचिका को न मानने से से नाराज हैं। उनकी मांग हैं कि एक अध्‍यादेश से यह रोस्‍टर समाप्‍त हो जाएगा। दिनभर चलने वाले इस बंद में मांगों का ज्ञापन स्‍थानीय स्‍तर पर जिला प्रशासन, दिल्‍ली में राष्‍ट्रपति और प्रधानमंत्री को सौंपा जाएगा। दिल्‍ली में मंडी हाउस से संसद मार्ग तक एक मार्च भी निकाला जाएगा।

दरअसल यह भारत बंद इसलिए किया जा रहा है क्यूंकि करीब 10 लाख आदवासियों और दलितों को सुप्रीम कोर्ट ने उनकी जमीन से बेदखल करने का आदेश दिया था। जंगलो में रह रहे आदिवासी और दलितों को जमीन से बेदखल कर उनके रहने की जगह छीन ली जिसके चलते संगठन ने भारत बंद का एलान किया है। वही दूसरी और बहुजन अपने 13 पॉइंट रोस्टर को लेकर भारत बंद में शामिल होंगे।

इनका मार्च दिली के मंडी हाउस से लेकर संसद मार्ग तक होगा। देखना यह होगा की क्या कोर्ट और केंद्र सरकार इस पर कोई कदम उठाती है या फिर आदिवासी और दलित संगठनो को मांग पूरी करने के लिए कोई कदम उठाना पड़ेगा।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved