fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

पुणे के डॉक्टर का आरोप- दिल्ली में पहले पूछा धर्म फिर ज़बरदस्ती बुलवाया ‘जय श्रीराम’

(Image Credits: The Hindu)

भारतीय जनता पार्टी की दोबारा सरकार बनने जा रही है 30 मई को नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री की शपत लेंगे। देश में भाजपा सरकार ने जिन मुद्दों पर चुनाव लड़ा वह था राष्ट्रवाद, राम मंदिर, हिन्दू-मुस्लिम इन सभी मुद्दों को राष्ट्रीय मुद्दा बना कर भाजपा ने लोकसभा चुनाव में जीत हासिल करी।

Advertisement

भाजपा की जीत के बाद है जहा अभी किसी से शपत ग्रहण भी नहीं किया वही देश भर से लगातार ऐसी घटनाय सामने आने लगी है जो फिर एक बाद भाजपा की नीतियों पर सवाल खड़े कर रही है। हाल ही में हरियाणा के गुरुग्राम में एक मुस्लिम युवक के साथ मारपीट की घटना सामने आई थी।

बताया जा रहा है की मुस्लिम युवक ने अपनी पारंपरिक टोपी पहनी हुई थी जिसके बाद एक युवक ने आकर उसको टोपी उतरने को कहा और कथित रूप से “भारत माता की जय” और “जय श्री राम” का नारा लगाने को कहा। “जय श्री राम” का नारा ना लगाने पर मुस्लिम युवक के अनुसार उनके साथ मारपीट की गई है।

वही अब दूसरा मामला भारत की राजधानी दिल्ली से सामने आया है जहा पुणे के मशहूर डॉक्टर गायक्नोलॉजिस्ट अरुण गद्रे के साथ बीते मंगलवार को युवाओं के एक समूह ने दिल्ली के कनॉट प्लेस में न सिर्फ अभद्रता की बल्कि उनसे ज़बरदस्ती ‘जय श्रीराम’ बोलने को कहा। गद्रे जंतर मंतर के पास वाईएमसीए के हॉस्टल में ठहरे हुए थे और सुबह सैर के लिए कनॉट प्लेस गए थे। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में 61 साल के गद्रे ने कहा कि जैसा मेरे साथ हुआ है वैसा किसी के साथ नहीं होना चाहिए, ये दुर्भाग्यपूर्ण है।

डॉक्टर गद्रे ने इस पूरी घटना का ज़िक्र करते हुए बताया की – मैं मंगलवार को सुबह सैर के लिए निकला था और तभी मेरा सामना युवाओं के एक समूह से हुआ। इन लोगों में से एक ने मुझसे पूछा कि अंकल क्या आप हिंदू नहीं हैं? बाद में इन्होंने मुझसे जोर से ‘जय श्रीराम’ बोलने के लिए कहा और मैंने ऐसा किया भी। मुझे ये घटना मज़ाक जैसी लगी थी इसलिए मैंने पुलिस को इसकी सूचना नहीं दी थी। गद्रे के मुताबिक उन्होंने अपने एक पत्रकार दोस्त को इस घटना के बारे में बताया जिसके बाद ये घटना बाहर आई। लोगो को ‘धर्म-जाति के आधार पर निशाना बनाना एकदम गलत है और यह कुछ सालो से घटनाय बहुत सक्रीय होने लगी है।


डॉ. अरुण गद्रे को बिजनौर में एक लेक्चर देना था, इसके लिए वह जंतर-मंतर के पास रुके हुए हैं। डॉ. गद्रे की हाल ही में बाईपास सर्जरी हुई थी वह इस घटना से हैरान और डरे हुए थे हालांकि गद्रे का कहना है कि उन्हें निशाना बनाकर ये नहीं किया गया था, उस वक़्त इस समूह को कोई भी मिलता तो शायद ये लोग उसके साथ ऐसा ही करते। ये मेरे लिए चौंकाने वाला था लेकिन मेरे जय श्रीराम बोलने के बाद वो लोग चले गए।

भद्रे ने कहा कि मैंने अपनी जिंदगी में कभी ऐसी घटना नहीं देखी इसलिए मैं काफी हैरान हुआ। उन्होंने कहा कि धर्म या जाति के आधार पर ऐसे किसी भी व्यक्ति को निशाना नहीं बनाया जाना चाहिए। बता दें कि गद्रे ने मंगलवार देर शाम इस घटना के संबंध में शिकायत दर्ज करा दी है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved