fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

RBI ने SBI पर ठोका अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना, जानिए क्यों

RBI's-biggest-fines-on-the-SBI-till-now,-know-why
(image credits: Zee Business)

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया को बड़ा झटका दिया है। आरबीआई ने बैंक पर आय मानदंड और संपत्ति वर्गीकरण जैसे नियामक मानदंडों का पालन न करने और सूचना साझा करने पर 7 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।

Advertisement

एसबीआई पर पेनल्टी इनकम रिकग्निशन और असेट क्लासिफिकेशन नियमों, चालू खाता खोलने और ऑपरेट करने में कोड ऑफ कंडक्ट का पालन नहीं करने, सेंट्रल रिपॉजिटरी ऑफ इनफॉरमेशन ऑन लार्ज क्रेडिट्स को डाटा की रिपोर्ट नहीं देने, एनपीए की पहचान, फ्रॉड रिस्क मैनेजमेंट से जुड़े नियमों का पालन नहीं करने और फ्रॉड के क्लासिफिकेशन व रिपोर्ट नहीं देने के चलते लगाया गया है।

हाल के दिनों में किसी भी बैंक पर यह सबसे अधिक जुर्माना राशि है। SBI देश का सबसे बड़ा बैंक है। रिपोर्ट के अनुसार बैंक चालू खाता खोलने, संचालन करने के दिशा-निर्देशों का पालन करने, डेटा की रिपोर्टिंग सेंट्रल क्रेडिटरी ऑफ़ लार्ज क्रेडिट्स को करने और धोखाधड़ी की रिपोर्ट करने में विफल रहा है। आरबीआई ने 31 मार्च, 2017 को एसबीआई की वित्तीय स्थिति का आकलन करने के लिए वैधानिक निरीक्षण किया था।

निरीक्षण में IRAC मानदंडों के बारे में जानकारी साझा करने के निर्देशों के साथ पालन नहीं करने का पता चला निरीक्षण के बाद आरबीआई ने एसबीआई को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. बैंक के जवाब और मौखिक प्रस्तुतियों पर विचार करने के बाद आरबीआई इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि गैर-अनुपालन के आरोपों की पुष्टि की गई और मौद्रिक जुर्माना लगाया गया.

RBI ने कहा कि बैंकिंग विनियमन अधिनियम 1949 की विभिन्न धाराओं के तहत निहित शक्तियों के अभ्यास में जुर्माना लगाया गया है। यह कार्रवाई नियामक अनुपालन में कमियों पर आधारित है। आरबीआई ने कहा कि इसका उद्देश्य बैंक द्वारा अपने ग्राहकों के साथ किए गए किसी भी लेनदेन या समझौते की वैधता का उच्चारण करना नहीं है।


एसबीआई पर अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना लगाया है। देखना यह है की इस विषय में एसबीआई क्या कदम उठाती है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved