fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

बीजेपी रैली में कुछ छात्रों ने पकौड़े बेच कर किया प्रदर्शन, पुलिस ने लिया हिरासत में

Some-students-in-the-BJP-rally-protested-by-selling-pakodas,-police-took-them-to-custody
(Representational Image) (Image Credits: Prokerala)

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के युवाओ को नौकरियां देने का वादा किया था, परन्तु वह वादे झूठे साबित हो गए। यहाँ तक की देश के युवाओ को पकौड़े बेचने तक की हिदायात दे दी थी। मोदी का कहना था की पकौड़े बेचना भी रोजगार है। जो व्यक्ति पकौड़े बेच के दिन के 200 से अधिक कमाए वह रोजगार है। मोदी के इस बयान पर काफी हंगामा भी हुआ था यहाँ तक मोदी पर कई सवाल भी उठाये गए। आखिर उन लोगो की डिग्री का क्या फायदा जब उन्हें पकौड़े ही बेचने है।

Advertisement

इसी प्रकार कुछ युवाओ ने बीजेपी रैली में पकौड़े बेच कर मोदी के खिलाफ प्रदर्शन किया। यह अनोखा प्रदर्शन देख रैली में स्तिथ पुलिस वालो ने उन्हें हिरासत में ले लिया। पुलिस ने मंगलवार को प्रधानमंत्री के रैली स्थल के नजदीक ‘‘मोदी पकौड़ा’’ बेच रहे करीब 12 छात्रों को हिरासत में ले लिया। सेक्टर 34 थाना प्रभारी बलदेव कुमार ने बताया, ‘‘हमने एहतियातन 10 से 12 छात्रों को हिरासत में लिया। हालांकि, रैली समाप्त होने के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया।’’ छात्र भाजपा प्रत्याशी किरण खेर के समर्थन में प्रधानमंत्री की एक रैली के स्थान के नजदीक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अपनी डिग्री इंजीनियरिंग, बीए और एलएलबी के नाम वाले पकौड़े बेच रहे थे।

10 से 12 छात्र मोदी के पकौड़े वाले दिए बयान को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। उनका मानना है की मोदी जी ने जिस रोजगार की बात की थी उस रोजगार से किसी व्यक्ति का घर चलना बहुत मुश्किल है। इस महंगाई के समय में आखिर कैसे कोई पकौड़े बेच कर अपना घर चला सकता है। मोदी के इन बेतुके बयानों से तंग आकर छात्रों ने यह रास्ता अपनाया।

रैली में ही मोदी नाम के पकौड़े बेचने वाली एक महिला प्रदर्शनकारी ने कहा, ‘‘हम यहां पकौड़ा योजना के तहत आये है। हमें नये रोजगार देने के लिए मोदीजी का स्वागत करने के लिए आए हैं। हम मोदी रैली में पकौड़ा बेचना चाहते हैं ताकि, वह जान सकें कि शिक्षित युवा के लिए पकौड़ा बेचना कितना महान है।’’ पिछले साल जनवरी में मोदी ने एक टेलीविजन साक्षात्कार में जोर देकर कहा था कि लोग पकौड़ा बेच कर एक दिन में 200 रूपया कमा रहे हैं उसे बेरोजगारी नहीं माना जा सकता। बता दें कि, किरण खेर, कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व केन्द्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल के खिलाफ चंडीगढ़ सीट से मैदान में हैं। यहां 19 मई को मतदान होना है।

भाजपा प्रत्याशी किरण खेर के रैली में यह मुद्दा जोरो से उठाया, परन्त्तु सुरक्षा के तहत उन सभी छात्रों को वहाँ से हटा दिया गया या फिर यह माना जा सकता है की मोदी की पकौड़ा बेचने वाले रोजगार से छात्रों में गुस्सा था जिसे रैली में बाहर नहीं आने दिया गया। दूसरी और चंडीगढ़ में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर अपना हमला जारी रखते हुए कहा कि देश एक मजबूत सरकार चुन रहा है और वह ‘परिवार पहले’ के बजाय ‘देश पहले’ को चुन रहा है।


मोदी अपने भाषणों में इस प्रकार के बयान देते रहे जो एक प्रधानमंत्री को कभी भी शोभा नहीं देता। कभी सैनको के कामो का श्रेय लेते है तो कभी रेडार वाली बातो को बढ़ा चढ़ा कर बोलते है। उनके कई ऐसे बयान है जिन पर उन्हें माफ़ी मांगने के लिए कहा गया यहाँ तक की पकौड़े बेचने वाली बात पर भी उन्हें घेरा गया परन्तु उन्होंने इस पर कोई जवाब देही नहीं की। अक्सर अपनी रैलियों में युवाओं को देश का उज्जवल भविष्य बताने वाले मोदी उन्हें पकौड़े बेचने की हिदायत देते रहे। यह देश के प्रधानमंत्री के लिए बड़े शर्म की बात है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved