fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

उत्तर प्रदेश: कश्मीरी युवक ने रचा अयोध्या की लड़की से विवाह, स्थानीय लोगो ने किया विरोध

Uttar-Pradesh:-Kashmiri-youth-marries-Ayodhya-girl,-local-people-protest
(image credits: huffpost uk)

हाल में जम्मू कश्मीर से विशेष दर्जा हटाने के बाद देश में कई तरह के बयान सामने आ रहे है। विशेष दर्जा हटने के बाद देशभर में लोगो और नेताओं ने सरकार के इस फैसले को घाटी के लोगो के लिए अच्छा बताया। इसके साथ ही नेताओं का यह मानना है की बीजेपी के इस फैसले से जम्मू और कश्मीर के लोग खुलकर पूरे भारत का हिस्सा बन सकेंगे। जो की पहले नहीं होता था।

Advertisement

एक तरफ मौजूदा सरकार घाटी के लोगो को भारत की संस्कृति में मिलाने की बात करती है। तो वहीँ दूसरी और बीजेपी के ही राज्य उत्तर प्रदेश में एक कश्मीर युवा का प्रदेश की लड़की के साथ शादी करना महंगा पड़ गया। दरअसल योगी राज्य में समाज के कुछ उन्मादी तत्वों द्बारा इस विवाह का विरोध किया गया।

घटना सोमवार की है जब एक कश्मीरी मुस्लिम युवक ने अयोध्या की लड़की के साथ विवाह करके लड़की को अपने साथ ले जाने की कोशिश की। इसी दौरान स्थानीय लोगो ने इसका विरोध किया और लड़की को युवक के साथ जाने से रोकेने की कोशिश की।

इस संदर्भ में पुलिस ने बताया की, 22 वर्षीय दूल्हा और उसके तीन रिश्तेदार – सभी जम्मू-कश्मीर के पुलवामा के एक गाँव से हैं – और वह सोमवार को शादी के लिए गाँव आए थे, जिसके कारण “कुछ गलत काम” की अफवाह फैल गई।

खंडसा थाना के SHO राम किशन राणा ने बताया, स्थानीय लोगों ने अफवाह फैलाना शुरू कर दिया कि कश्मीरी पुरुष गांव की लड़की को लेने आए हैं। हमें कुछ ग्रामीणों से शादी के बारे में शिकायत मिली, लेकिन जब हमने घटनास्थल का दौरा किया, तो हमने पाया कि कश्मीरी युवाओं और उनके तीन रिश्तेदारों के पास अपनी पहचान साबित करने के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज थे, ” उन्होंने आगे कहा की, उन लोगो ने स्थानीय सेवा केंद्र से अपने सभा दस्तावजों की जाँच करवा ली है।


पुलिस ने कहा कि गांववाले दुल्हन के घर के बाहर जमा हो गए और दुल्हन को उसके कश्मीरी पति के साथ जाने से रोक दिया। ग्रामीणों का कहना था कि वे महिला को उसके पति के साथ नहीं जाने देंगे। लेकिन बाद में हमने हस्तक्षेप किया और उन्हें समझाया कि 22 वर्षीय कश्मीरी युवा और 21 वर्षीय लड़की को शादी करने का अधिकार है, फिर उन्होंने महिला को विदा किया।

इस बारे गांव के प्रधान के बेटे ने कहा की युवक के परिवार का कश्मीर से होने के कारण स्थानीय लोगो ने कुछ गलत होने की आशंका जताई। एसएचओ ने कहा कि दंपति और उनके कश्मीरी रिश्तेदार मंगलवार शाम को बिना किसी समस्या के गांव से चले गए।

वहीँ मिल्कीपुर के एक सर्कल ऑफिसर, राजेश कुमार राय ने कहा कि कश्मीरी युवाओं ने उन्हें बताया कि वे पहले कोलकाता जाएंगे जहां वे किराए पर रहते हैं, और वहाँ से वे बाद में कश्मीर लौटेंगे।

उत्तर प्रदेश में समाज के कुछ उन्मादी तत्वों द्वारा कश्मीरी दम्पति के साथ इस प्रकार के हरकत करना उचित नहीं है। देखा जाए तो राज्य की योगी सरकार प्रदेश में अनुसाशन और कानून वयवस्था बनाये रखने की न जाने कितनी बाते करती है, परन्तु फिर भी इस प्रकार के वाकया सामने आते है। जो की निंदनीय है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved