fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

उत्तर प्रदेश : कथित रूप से विश्वहिंदू परिषद के लोगो ने कश्मीरी युवको से की मारपीट, मारपीट करने की वजह युवको के कश्मीरी होने को बताया

Uttar Pradesh:-The-people-of-the-Vishwa-Hindu-Parishad-allegedly-assaulted-the-Kashmiri-youth,-the-reason-for-the-assault-was-to- told -the-youth-to-be-Kashmiri
(Image Credits: Navbharat Times)

योगी सरकार उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था दुरुस्त होने का अक्सर दावा करती रहती है। और यह भी कहती है की प्रदेश में गुंडा राज ख़त्म कर दिया गया है। परन्तु सच्चाई तो यह है की योगी राज में अभी भी असामजिक तत्वों द्वारा मजबूर लोगो को परेशान किया जाता है। खासकर उन लोगो को ज्यादा नुकसान पहुंचाया जाता है, जो प्रदेश के मूल निवासी नहीं है। मूल निवासी से यहां हमारा मतलब उन लोगो से है, जो दूसरे राज्यों से प्रदेश में आकर छोटे मोटे रोजगार कर रहें है।

Advertisement

ऐसे ही एक और घटना एक बार फिर सामने आई है, मामला उत्तर प्रदेश लखनऊ का है , जहाँ भीड़ भाड़ वाले सड़क पर ड्राई फ्रूट्स बेच रहे कश्मीर के दो विक्रेताओं पर बुधवार को कथित रूप से राइट-विंग संगठन से जुड़ें लोगों के एक समूह ने उनपर हमला कर दिया और उन्हें पीट दिया। संगठन के दो लोगो में एक ने मारपीट की और दूसरे व्यक्ति ने घटना का वीडियो बनाकर साझा कर दिया। हालांकि स्थानीय लोगो द्वारा दोनों कश्मीरी युवक को हमलावरों के चंगुल से बचा लिया गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह वीडियो लखनऊ के डालीगंज पुल का बताया जा रहा है। घटना बुधवार शाम को हुई है। संगठन के लोगो द्वारा कश्मीरियों के साथ मारपीट की वीडियो में यह कहते हुए सुना जा सकता है कि वे ऐसा इसलिए कर रहे हैं क्योंकि वे कश्मीर से हैं। सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हो रहा है, उसमें साफ देखा जा सकता है कि कैसे दो हमलावर भगवा कपड़ा पहने हुए हैं और वे कश्मीरी विक्रेता को थपड़ और डंडे से मार रहे हैं।

बताया जा रहा है की दक्षिण पंथी संगठन से जुड़े लोगों ने जिन दो कश्मीरी युवको के साथ बदसुलूकी की है। वो दोनों कई सालों से लखनऊ में ड्राई फ्रूट्स बेच रहे हैं। अभी हाल ही में जम्मू कश्मीर में CRPF काफिले के साथ हुई घटना के बाद, देशभर में कश्मीरियों से मारपीट की खबरे सामने आई थी। जिसे देखते हुए गृह मंत्रालय ने कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी राज्यों को सख्त निर्देश दिए थे।

यह भी कहा जा रहा है की आरोपियों ने पीड़ित कश्मीरी युवको से आधार कार्ड भी माँगा, जिससे युवक ने आधारकार्ड होने की जानकारी भी दी। लेकिन भगवाधारी गुंडों ने उनकी कोई बात नहीं सुनी। वे कश्मीरी दुकानदार को पीटते रहे। साथ ही, लाठी भी फटकारी।


इस मामले में मुख्य आरोपी विश्व हिन्दू परिषद का सदस्य होने का दावा कर रहा है। और बता दें की फिलहाल उसे गिरफ्तार नहीं किया गया है। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री न घटना के वीडियो की तरफ इशारा करते हुए ट्वीट करके प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है। और कहा है की , यह वही है जिसके खिलाफ आपने बातें किए थे। लेकिन फिर भी यह लगातार जारी है। यह राज्य आपके चुने गए मुख्यमंत्री द्वारा ही संचालित है। क्या हम इस मामले में कार्रवाई की उम्मीद कर सकते हैं, या क्या हम आपकी चिंता और आश्वासन को जुमले के रूप में देखें, जिसका मतलब सिर्फ तसल्ली देने से ज्यादा कुछ नहीं?

गौरतलब है कि कश्मीरियों के साथ मारपीट का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी डालीगंज में ड्राई फ्रूट्स बेचने वाले कश्मीरी युवक की पिटाई का मामला सामने आ चुका है। वहीं, उत्तर प्रदेश के ही बरेली में विहिप (विश्व हिंदू परिषद) के कार्यकर्ताओं ने पुलिस की मौजूदगी में एक हस्तशिल्प प्रदर्शनी में कश्मीरी स्टालों को बंद करा दिया था।

मौजूदा सरकार में सबका साथ सबका विकास की बाते कही जाती है। परन्तु वास्तव में ऐसा नहीं है, क्यूंकि आज भी हमारे देश में सभी नागरिको को समान नहीं समझा जाता है। आखिर क्यों हम किसी एक समुदाय को एक दूसरे नजरिये से देखते है। विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं द्वारा दूसरे राज्य के लोगो के साथ इस प्रकार का व्यवहार करना, उनकी घटिया मानसिकता को दर्शाता है।

एक तरफ प्रधानमंत्री मोदी बिना भेदभाव के देश में नागरिकों के सम्मान और विकास होने का दिखावा करते हैं। वहीं दूसरी तरफ, उनके ही पार्टी से जुड़े कुछ लोगो द्वारा इस प्रकार के हरकतों को अंजाम दिया जाता है। जो की बेहद ही निंदनीय है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved