fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

उत्तर प्रदेश: बीजेपी की इस महिला सांसद ने सिपाही पर उठाया हाथ

uttar-pradesh-this-bjp-woman-mp-slaps-a-police-constable
(IMAGE CREDITS: Amar Ujala)

बीजेपी सरकार के दोबारा सत्ता में आने के बाद कुछ मंत्रियो के हौसले बुलंदियों पर है। ना ही पुलिस का डर है ना ही कानून की परवाह है। हाल ही में ऐसे कई मामले सामने आये है जिनमे बीजेपी के कार्यकर्ताओं और मंत्रियो के गुंडागर्दी के केस शामिल है। बीजेपी मंत्री किस प्रकार अपने पदों का गलत इस्तेमाल कर रहे है यह सभी जनता जानती है।

Advertisement

ऐसे में एक नया वाकया सामने आया है जिसमे एक सिपाही ने बीजेपी के मंत्री पर धमकी और मारपीट का आरोप लगाया है। जन्सत्त्ता खबर के अनुसार यूपी पुलिस के एक सिपाही ने धौरहरा से बीजेपी सांसद रेखा वर्मा पर थप्पड़ मारने और जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है। पीड़ित सिपाही ने इस मामले में थाने में शिकायत दर्ज कराई है और इंसाफ की मांग की है। सिपाही ने अल्टीमेटम दिया है कि अगर उसे न्याय नहीं मिला तो वह आत्मदाह कर लेगा। पुलिस ने लखीमपुर खीरी के मोहम्मदी थाने में सांसद के खिलाफ आईपीसी की धारा 353, 332, 504, 506 और 274 के तहत केस दर्ज कर लिया है।

कॉन्स्टेबल श्याम सिंह का कहना है की, ‘‘बीजेपी सांसद रेखा वर्मा ने मुझे थप्पड़ मारा। साथ ही, बिना किसी कारण मुझे अपमानजनक बातें भी कहीं। इसके बाद वह चली गईं। मैंने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। उम्मीद है कि मुझे न्याय मिलेगा।’’

जानकारी के अनुसार, मोहम्मदी में रविवार यानि 9 जून शाम को बीजेपी कार्यकर्ताओं ने सम्मान समारोह का आयोजन किया था, जिसमें सांसद रेखा वर्मा पहुंची थीं। रात करीब 11 बजे वह समारोह से लौट रही थीं। उस दौरान मोहम्मदी थाने की तरफ से सांसद को स्कॉर्ट उपलब्ध कराई गई। बताया जा रहा है कि थाने की सीमा पार कराने के बाद स्कॉर्ट लौटने लगी और सांसद अपनी कार से बैठ गईं। उस दौरान उन्होंने सिपाही श्याम सिंह को बुलाया। आरोप है कि सांसद ने स्कार्ट के चालक सिपाही श्याम सिंह को थप्पड़ मार दिया। साथ ही, अपमानकिया और जान से मारने की धमकी भी दी।

पीड़ित सिपाही श्याम सिंह ने सोमवार को कोतवाली में तहरीर दी। इसके बाद पुलिस अफसरों ने चुप्पी साध ली। मोहम्मदी थाने के सीओ श्रेष्ठा ठाकुर ने बताया, ‘‘सिपाही की तहरीर पर बीजेपी सांसद रेखा वर्मा के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है।


इस घटना से यह पता चलता है की बीजेपी के मंत्रियों के हौसले इस प्रकार बढ़ गए है की वह कानून को भी हाथ में ले सकते है। आखिर क्यों डरे जब उनकी सरकार सत्ता में वापस आ गयी है। बिना किसी वजह एक सिपाही पर इस प्रकार अपनी भड़ास निकालना एक मंत्री को शोभा नहीं देता परन्तु यहाँ एक बीजेपी महिला मंत्री ने कानून को हाथ में लेते हुए सिपाही के साथ अन्याय किया है।

आखिर ऐसे हालातो में किसी नेता के ऊपर कोई कड़ी कार्यवाही क्यों नहीं की जाती। क्या यह माना जा सकता है की क़ानून बड़े लोगो के हाथो में है या फिर यह माना जा सकता है की कानून तोड़ने का हक़ सिर्फ नेताओं को है। ऐसे मामलो में अक्सर नेताओं पर कोई खास कार्यवाही नहीं होती, उन्हें चेतावनी दे दी जाती है या फिर कोई केस ही दर्ज नहीं किया जाता।

गुंडागर्दी की पार्टी कहे जानी वाली बीजेपी सरकार एक बार फिर से उस नाम को सच साबित करने में लगी है जो अक्सर विपक्षी पार्टी उसे बुलाते है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved