fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

वाराणसी में सड़क चौड़ी करने के चलते उजाड़ी जाएगी दलितों की बस्ती

Varanasi- Dalit's-settlement-will-be-desolate-due-to-the-widening-of-the-road-in-Varanasi
(Image Credits: Scroll.in)

वाराणसी नगर के तेलियाना कज्जाकपुर मार्ग को चौड़ा करने के चलते दलित बस्ती को हटाया जायेगा। इस संबंध में लोकनिर्माण विभाग ने सड़क की सीमा तय करते हुए दलित बस्ती के लोगो को चेतावनी दी है। लोकनिर्माण विभाग का कहना है की जहाँ तक सड़क बनाने के लिए निशान लगाए गए है वहां से सभी लोग घर, प्रतिष्ठान, ऑफिस आदि जो भी अस्थाई निर्माण हो उसे तुरंत वहां से हटा ले वरना चिन्हित निशान तक सभी निर्माण ध्वस्त कर दिए जायेंगे। साथ ही उसका होने वाला खर्च भी संबंधित व्यक्ति व संस्थान से ही वसूला जायेगा। इस सड़क के मध्य से दोनों छोर पर 06 मीटर सड़क को चौड़ा होना है।

Advertisement

पीडब्लूडी द्वारा रोड चौड़ी करने की सीमांकन होते ही इस मार्ग के निवासियों की समस्यांए बढ़ गयी है। बस्ती के लोगो का कहना है की चुनाव से पहले सभी दल के नेताओं ने बाईपास रोड निर्माण का वादा किया था जो अब झूठा साबित हो रहा है। सड़क निर्माण के चलते लोगो की रोजी रोटी पर संकट आ खड़ा हुआ है। एक पटरी पर 15 से 20 फिट तक का निर्माण टूटने का अंदेशा जताया जा रहा रहा है।

सफाई कर्मी बस्ती में करीब 40 से अधिक परिवार 70 सालो से अपने परिवार के साथ वह गुजर बसर कर रहे है और अब उसे सड़क चौड़ी करने के नाम पर प्रशासन द्वारा उजाड़ने की तैयारी हो गयी है। बस्ती का नाप जोख लोक निर्माण विभाग द्वारा किया गया है और लोगो को यहाँ से हटने के लिए फरमान जारी कर दिया गया है। जबकि भारत के सविंधान के अनुसार सभी गरीबों का घर बसाने का काम सरकारों को करना है।

बस्ती में रहने वाले सफाई कर्मी राजू, रिटायर्ड सफाई कर्मी जवाहिर, रिटायर्ड सफाई कर्मी भगवानदास कहना है की मेरे बाप दादा भी यहाँ पर पले बढे हुए और मैंने भी यहीं रहकर सरकारी नौकरी पायी है और 2015 में रिटायर हो गया। उसके बावजूद सरकार ने आज तक उन्हें आवास बना कर नहीं दिया।

जान अधिकार मंच सामाजिक संगठन के संस्थापक अध्यक्ष अनिल कुमार मौर्य और न्याय मंच की किरण व ममता ने संयुक्त रूप से बताया की समृत सिटी बनाओ गरीब हटाओ-दलित भगाओ जो उत्तर प्रदेश शासन की ऐसी निति है जो गरीब वर्ग के लिए अब श्राप साबित हो रही है। गरीब लोगो के घरो के साथ उनकी पूरी बस्ती उजाड़ी जा रही है।


सामजिक कार्यकर्ता राजकुमार गुप्ता का कहना है की स्मार्ट सिटी के नाम पर लोगो को ऐसा सपना दिखाया जा रहा है। लेकिन जब ये सभी मासूम लोग जागेंगे तो समझ आएगा।  उनका कहना है की गरीबो मजलूमों का उत्पीड़न बिलकुल नहीं सहन किया जायेगा। गरीबो के हक़ और मान सम्मान के लिए सड़क से लेकर न्यायालय तक संघर्ष होगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved