fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

राम सेतु पर ये क्या बोल गए बीजेपी मंत्री ? जानिए पूरा मामला

What-did-BJP-ministers-say-on-Ram-Setu?-Know-the-whole-matter
(image credits: dainik jagron)

राम सेतु को लेकर पहले भी बहस छिड़ी है और कई तथ्य रखे गए।  और एक बार फिर राम सेतु को लेकर बीजेपी के मंत्री ने अजीब-ओ-गरीब बयान दे दिया है। बीजेपी केंद्रीय मानव संसाधन एवं विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने रामसेतु पूल को लेकर ऐसा बयान दिया है जिस पर विश्वाश करना थोड़ा मुश्किल है। 

Advertisement

दरअसल रमेश पोखरियाल का कहना है की राम सेतु भारतीय इंजीनियरों ने बनाया है। इसे प्राचीन भारतीयों ने बनाया था। ताकि भारत और श्रीलंका को जोड़ा जा सके। इसमें कोई शक नहीं कि राम सेतु इंजीनियरिंग का चमत्कार है।

इसे प्राचीन भारतीयों ने बनाया था, ताकि भारत और श्रीलंका को जोड़ा जा सके। उन्होंने कहा कि वह मानते हैं कि हिमालय, जैसे नीलकंठ विकसित देशों से आई प्रदूषित हवा को अवशोषित कर भारत की रक्षा करता है। पोखरियाल ने ये बात मंगलवार को आईआईटी खड़गपुर के कॉन्वोकेशन कार्यक्रम में कही। उन्होंने युवाओं को देश के अतीत पर अनुसंधान करने और उस ज्ञान को लोगों के भले के लिए इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया।

कॉन्वोकेशन में छात्रों को संबोधित करते हुए पोखरियाल ने दावा किया कि, “क्या कोई असहमति है कि हमारे इंजीनियरों ने राम सेतु का निर्माण किया था? इसे बनाने के लिए कोई अमेरिका, ब्रिटेन या फिर जर्मनी से नहीं आया था।” उन्होंने कहा, “ठीक है? सही है? बताइए ना, आप चुप क्यों हैं?” इस पर छात्रों का रुख थोड़ा नरम दिखा और हल्की फुल्की तालियां भी बजाई। छात्रों के इस व्यवहार से ही पता चलता है की  मंत्री जी की बातो पर असहमति जताई जाए या नहीं। 

उन्होंने दावा किया कि दुनिया की पहली भाषा संस्कृत है। उन्होंने कहा, ‘जब हम पीछे देखते हैं तो याद करते हैं कि हमारे इंजीनियरों ने कैसे राम सेतु बनाया था और हमारे भावी इंजीनियरों को इस पर गहन अध्ययन करना चाहिए। बता दें कि भारतीय पुराणों में उल्लेख है कि भगवान राम की वानर सेना ने समुद्र पार करके लंका जाने के लिए राम सेतु का निर्माण किया था।


जब निशंक से बाद में संवाददाता सम्मेलन में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण यानि एएसआई के इस बयान के बारे में पूछा गया कि यह साबित करने के लिए कोई ऐतिहासिक या वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं है कि राम सेतु मानव निर्मित सेतु है। तब इस पर एचआरडी मंत्री ने कहा, ‘मेरा आशय है कि नया अनुसंधान होना चाहिए और राम सेतु के बारे में अध्ययन होना चाहिए।’

इतिहास और किताबो को देखा जाए तो राम सेतु राम जी की वानर सेना ने बनाया था ताकि श्रीलंका तक पहुंचा जा सके। ऐसे में बीजेपी के मंत्री का यह बयान कुछ पल्ले नहीं पड़ा। यहाँ तक की छात्रों की बेरुखी भी यह इन बातो पर असहमति जताती है। 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved