fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

लोकतंत्र को बचाने के लिए पश्चिमी बंगाल में EVM के बदले बैलेट पेपर से हो चुनाव

To-save-democracy-in-West-Bengal-instead-of-EVM,-election-should-be-held-through-ballot-paper
(image credits: India Today)

बरसो से चले रहे EVM और बैलेट पेपर के बीच चलने वाले बहस कई सालो से चलती आ रही है। हर बार चुनावी परिणाम के बाद यह बहस और तेज़ होती जा रही है। चुनाव आयोग द्वारा हर बार दोहरा रवैया अपनाये जाने पर विपक्षी पार्टियों में EVM को लेकर लगातार गुस्सा बढ़ता जा रहा है। वही हाल ही में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग से बैलेट पेपर से चुनाव की मांग की है।

Advertisement

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पार्टी नेताओं के साथ बैठक के बाद एक बार फिर से भारतीय जनता पार्टी पर हमला बोला है। टीएमसी की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल के बारे में बीजेपी फेक न्यूज फैलाने का प्रयास कर रही है। टीएमसी घर-घर तक जाकर अभियान चलाएगी। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र बचाने के लिए हम ईवीएम से चुनाव नहीं चाहते हैं।

ईवीएम की जगह चुनाव में बैलेट बॉक्स का उपयोग होना चाहिए तभी चुनाव निष्पक्ष रूप से हो पाएंगे। ईवीएम पर एक फैक्ट फाइंडिंग कमेटी होनी चाहिए। बता दें, इससे पहले ममता बनर्जी ने सोमवार दोपहर में पार्टी के सासंदों, मंत्रियों और विधायकों के साथ बैठक की। वहीं रविवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को आरोप लगाया था कि भाजपा बार-बार ‘जय श्री राम का इस्तेमाल कर धर्म को राजनीति में मिला रही है। तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा था कि नफरत की विचारधारा के प्रचार-प्रसार का प्रयास किया जा रहा है, जिसका विरोध किया जाना चाहिए।

उन्होंने एक फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘जय सिया राम, जय रामजी की, राम नाम सत्य है आदि के धार्मिक और सामाजिक निहितार्थ हैं। लेकिन भाजपा धार्मिक नारे जय श्री राम को अपनी पार्टी के नारे के तौर पर गलत तरीके से इस्तेमाल कर धर्म को राजनीति से मिला रही है।’ उन्होंने कहा कि उन्हें किसी खास नारे के किसी रैली या पार्टी के कार्यक्रम में इस्तेमाल किए जाने पर कोई आपत्ति नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मुझे किसी राजनीतिक दलों की रैलियों और उनके पार्टी के उद्देश्य में कोई खास नारे से कोई दिक्कत नहीं है। हर राजनीतिक दल का अपना नारा है। मेरी पार्टी का ‘जय हिंद, वंदे मातरम नारा है। वाम का ‘इंकलाब जिंदाबाद नारा है। अन्यों के भी अलग-अलग नारे हैं। हम एक-दूसरे का सम्मान करते हैं।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ‘हम दूसरों पर, इस धार्मिक नारे के जबरन प्रवर्तन का सम्मान नहीं करते।’ वहीं सोशल मीडिया पर पश्चिम बंगाल के 24 परगना जिले में ममता बनर्जी का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें ममता ‘जय श्री राम के नारे लगा रहे कुछ लोगों पर नाराजगी जताई थी। बनर्जी ने पोस्ट में लिखा, ‘हिंसा और तोडफ़ोड़ के जरिए नफरत की विचारधारा को जानबूझ कर बेचने का प्रयास किया जा रहा है जिसका निश्चित रूप से विरोध किया जाना चाहिए।’ पश्चिमी बंगाल में भाजपा की बढ़ती सीट मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के परेशानी का सबब बनी हुई है। आने वाले विधानसभा के चुनाव में ममता बनर्जी किसी भी तरह से बीजेपी का सफाया विधानसभा से करना चाह रही है इसलिए उन्होंने मांग करी है की अब पश्चिमी बंगाल में चुनाव EVM के बजाय बैलट पेपर से करवाए जाने चाहिए।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved