fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

अखिलेश यादव ने कहा लोकसभा चुनाव के दौरान सपा और बसपा एक साथ करेंगे रैली

(Image Credits: Total Tv)

चुनावी बिगुल बज चूका है और लोकसभा चुनाव की तारीख तय हो चुकी है। इसी के साथ पार्टियों में तेज़ी से योजनाएं बनायीं जा रही है और कई बदलाव भी किये जा रहे है। भाजपा सरकार भी अपनी पार्टी में सांसदो को चुनाव के लिए बदल रही है। परन्तु भाजपा सरकार को सत्ता से उखाड़ फेकने के लिए मायावती और अखिलेश यादव दोनों ही तैयार है। बसपा प्रमुख मायावती ने मोदी को बहार का रास्ता दिखाने के लिए सपा के साथ गठबंधन किया।

Advertisement

हलाकि इस गठबंधन से सपा-बसपा का मेलजोल काफी अच्छा बनता दिख रहा है। अखिलेश यादव मायावती के साथ कदम से कदम मिला कर चलते नजर आ रहे है। उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष अखिलेश का कहना है कि लोकसभा चुनाव के दौरान सपा और बसपा एक साथ रैली करेंगे। पूछे गए सवाल के जवाब में अखिलेश यादव ने कहा कि बुधवार को बसपा सुप्रीमो मायावती के साथ हमारी बैठक थी। उस बैठक में चुनावी रणनीति पर हमारी बात हुई। लोकसभा चुनाव के दौरान हम लोगों ने एक साथ रैली करने की योजना बनाई है।

उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा एक साथ चुनाव मैदान में उतर रहे हैं। सीटों पर बनी सहमति के तहत राज्‍य में सपा 37 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, जबकि बसपा 38 सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही है। तीन सीट राष्‍ट्रीय लोकदल को दिया गया है। आरएलडी मथुरा, मुजफ्फरनगर और बागपत से चुनाव लड़ेगी. कांग्रेस को राय बरेली और अमेठी लोकसभा क्षेत्र दिया गया है।

अखिलेश यादव का कहना है कि चुनाव की घोषणा हो गई है ऐसे में हम लोगों के बीच पहुंचने की अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं। राज्‍य में सात चरणों में चुनाव कराए जाने की घोषणा हुई है। 11 अप्रैल को पहले चरण का मतदान है जबकि 19 मई को अंतिम चरण का मतदान होना है। चुनाव परिणाम की घोषणा 23 मई को होनी है। अखिलेश यादव का कहना है कि चुनाव की घोषणा होने के बाद सभी राजनीतिक दल अपने उम्‍मीदवारों के नाम का ऐलान कर रहे हैं। सपा और बसपा ने भी अपने कुछ उम्‍मीदवारों के नाम का ऐलान किया है।

इसी के साथ अखिलेश यादव ने योगी भाजपा सरकार के साथ साथ योगी पर भी हमला किया। अखिलेश ने कहा कि बीजेपी ने सत्‍ता हासिल करने के लिए लोगों से जो वादा किया था उसे पूरा नहीं कर रही है। लैपटॉप देने का वादा किया गया था, वह कहां है? नौकरी का वादा था, किसानों के हक की बात थी, कहां है वह सब?


अखिलेश से कांग्रेस महासचिव और पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी की भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद से मेरठ के एक अस्‍पताल में मुलाकात की खबर पर सवाल पूछे गए परन्तु अखिलेश से उसे दरकिनार कर दिया। प्रियंका गांधी भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद से बुधवार को अस्‍पताल में मिलीं थी।

2014 के लोकसभा चुनाव में एनडीए ने राज्‍य की 80 लोकसभा सीट में से 73 सीटों पर कब्‍जा जमा लिया था जबकि सपा के खाते में सिर्फ 5 सीट आए थे और बसपा का सफाया हो गया था। देखना है अब इस बार सपा-बसपा गठबंधन क्या क्या रणनीति बनती है। परन्तु इस बार लगता है की यूपी से योगी सरकार का सत्ता से बाहर होना मुमकिन है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved