fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

येदुरप्पा की गुप्त डायरी से हुआ बड़ा खुलासा, जेटली और गडकरी समेत कई बड़े दिग्गज नेता फसे

(Image Credits: Scroll.in)

मोदी सरकार कुछ समय से आरोपों के घेरे में फसती जा रहे है। भाजपा सरकार पर पहले राफेल मामले को लेकर हमला बोला जाता रहा है वहीँ चुनाव से पहले मोदी सरकार पर नौकरियों से जुडी रिपोर्ट छुपाने का भी आरोप लगा है। कुछ दिनों पहले ही राफेल की गुप्त फाइल चोरी होने के बाद घमासान मच गया। कहा जा रहा है की राफेल के कागजात खुद मोदी ने ही गायब करवाए है।

Advertisement

परन्तु लोकसभा चुनाव नजदीक आ चुके है, अब एक और मुसीबत में फसती नजर आ रही है मोदी की सरकार और उनके लोग। कांग्रेस ने भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा द्वारा भाजपा के बड़े नेताओं समेत कई लोगों को 1800 करोड़ रुपये की रिश्वत देने का आरोप लगाया है। पार्टी ने आरोप लगाया है कि येदियुरप्पा ने भाजपा की राष्ट्रीय समिति के नेताओं राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, नितिन गडकरी तक को रिश्वत दी है। कांग्रेस ने इस मामले की जाँच करने की मांग की है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी यह आरोप लगते हुए कहा है कि 14 फरवरी 2017 को कांग्रेस ने बीएस येदियुरप्पा और अनंत कुमार का एक वीडियो रिलीज किया था। उस वीडियो में ये साफ था कि एक हजार करोड़ से अधिक की रिश्वत भाजपा के लीडरशिप को दी गई है और इस मामले में एक डायरी भी है।

सुरजेवाला का कहना है की , ‘इस कथित डायरी से यह बात सामने आती है कि 2690 करोड़ रुपया वसूला गया और 1800 करोड़ रुपया भाजपा के नेतृत्व को पहुंचाया गया। इसमें से 1,000 करोड़ रुपया भाजपा की राष्ट्रीय समिति को दिया गया। ये पैसा राजनाथ सिंह से लेकर जेटली को दिया गया।

दूसरी ओर, द कारवां पत्रिका ने दावा किया है कि उनके द्वारा प्राप्त किए गए दस्तावेज़ों से पता चला है कि प्रमुख भाजपा नेता और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की लिखावट में एक डायरी आयकर विभाग के कब्जे में है जिसमें 1,800 करोड़ रुपये से अधिक की राशि का भाजपा के राष्ट्रीय नेता, इसकी केंद्रीय समिति और न्यायाधीश और वकीलों को भुगतान करने की जानकारी है।


माना जा रहा है की आयकर विभाग के पास 2017 से ही ये डायरी मौजूद है। डायरी में लिखे हिसाबो से पता चलता है कि येदियुरप्पा ने भाजपा केंद्रीय समिति को 1,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया था। इसमें से उन्होंने वित्त मंत्री अरुण जेटली और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को 150 करोड़ रुपये दिए , गृह मंत्री राजनाथ सिंह को 100 करोड़ रुपये दिए और उन्होंने लालकृष्ण आडवाणी और पार्टी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी को 50 करोड़ रुपये का भुगतान किया था।

यही नहीं येदियुरप्पा ने गडकरी के बेटे के शादी में 10 करोड़ रुपया दिया। डायरी में ये भी जानकारी है कि येदियुरप्पा ने 250 करोड़ रुपये जजों को दिए और केस लड़ने के लिए 50 करोड़ रुपये वकीलों को दिया। हालांकि इन लोगों का नाम नहीं लिखा है।

द कारवां की रिपोर्ट के मुताबिक डायरी में लिखा है कि 17 जनवरी 2009 को भाजपा नेताओं, जजों और वकीलों को भुगतान किया गया। दूसरी ओर, 18 जनवरी 2009 को भाजपा की राष्ट्रीय समिति को पैसे दिए गए। येदियुरप्पा मई 2008 से जुलाई 2011 तक कर्नाटक के मुख्यमंत्री थे। येदियुरप्पा के हस्ताक्षर डायरी के हर एक पन्ने पर है।

परन्तु येदुरप्पा ने इन सभी आरोपों को ठुकरा दिया है और कहा है की कांग्रेस पार्टी और उनके नेता विचारों से दिवालिया हो चुके हैं, वे मोदी जी की बढ़ती लोकप्रियता से निराश हैं, उन्होंने लड़ाई शुरू होने से पहले ही हार मान ली है। आयकर विभाग के अधिकारी पहले ही साबित कर चुके हैं कि ये दस्तावेज जाली और नकली हैं।

येदुरप्पा ने यह भी कहा की , उन्होंने आगामी चुनावों में लाभ प्राप्त करने के लिए मीडिया में कहानी रची है. कांग्रेस नेताओं द्वारा उठाए गए मुद्दे अप्रासंगिक और झूठे हैं. मैं संबंधित व्यक्ति के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करने के लिए वरिष्ठ वकीलों के साथ चर्चा कर रहा हूं।

भाजपा एक के बाद एक बड़े विवादों में फसती जा रही है। मोदी सरकार की पोल खुल रही है और धीरे धीरे लोगो के सामने उकसा असली चेहरा सामने आ रहा है। हलाकि इस रिपोर्ट की नेशनल दस्तक पुष्टि नहीं करता।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved