fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

बीजेपी सहयोगी शिवसेना ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, लगाए गंभीर आरोप

bjp-ally-shiv-sena-targets-the-modi-government-put-serious-allegation
(image credits: Free Press Journal)

बीजेपी सहयोगी शिवसेना ने एक बार फिर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। शिवसेना ने बीजेपी पर आरोप लगाया है की, बेटे बचाओं बेटी पढ़ाओ केवल नारे की तरह है। वास्तविक में इसका कोई मतलब नहीं है। मुखपत्र ‘सामना’ में छपे संपादकीय के जरिये शिवसेना ने तंज कस्ते हुए कहा की, जीत का जश्न समाप्त हो गया हो तो अलीगढ़ में हुए दर्दनाक कांड की तरफ भी देखना चाहिए। संपादकीय में कहा गया कि कांग्रेस, बॉलीवुड और खेल जगत के कई दिग्गजों ने इस घटना के प्रति अपना गुस्सा जाहिर किया मगर सत्ताधीश के रूप में दोबारा चुनकर आए अपनी मर्यादा भूल गए।

Advertisement

दरअसल शिवसेना ने यूपी कैबिनेट मिनिस्टर उपेंद्र तिवारी के बयान पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि कई बार महिलाएं 6-7 साल रिश्ते में रहने के बाद भी गंभीर आरोप लगा देती हैं। , ऐसा है तो सवाल तो उठेगा कि साल साल पहले क्यों नहीं कहा। संपादकीय में कहा गया, ‘मोदी और शाह ऐसे लोगों को बार-बार समझाते रहते हैं, फिर भी ये लोग क्यों भटक जाते हैं?

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ की तारीफ करते हुए संपादकीय में कहा गया कि योगी सरकार ने जंगलराज के खिलाफ मुहिम छेड़ रखी है, कई माफियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। मगर ढाई साल की बच्ची के साथ जो घटा यह विकृति है।’ लेख में सख्त भाषा का इस्तेमाल करते हुए कहा गया कि आतंकवादियों और अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सकती है।

सम्पादकीय में दिल्ली में निर्भया घटना के बारे में भी जिक्र किया गया। और कहा, उस वक्त जिन लोगों ने संसद नहीं चलने दी वहीं लोग आज सत्ता में बैठे हैं। इसलिए वर्तमान सत्ताधारियों की जिम्मेदारी बड़ी है। अलीगढ़ प्रकरण में लोग सड़क पर उतर आए हैं। अलीगढ़ बार काउंसिल ने आरोपियों का केस लड़ने से इनकार किया। यह सही भी है। मुखपत्र में कहा, अलीगढ़ में जिस बच्ची के साथ घटना घटी वह देश की भी बेटी थी। यह भावना महत्वपूर्ण है।’

अलीगढ़ मामले में पुलिस केस में देरी को लेकर भी शिवसेना ने यूपी सरकार पर निशाना साधा। और कहा, ‘ढाई साल की बच्ची गायब हो गई मगर पुलिस ने केस दर्ज करने में टालमटोल की और जांच में भी देरी की। ऐसे में ‘बेटी बचाओं’ के नारे खोखले साबित होते हैं। अलीगढ़ की घटना मानवता पर कलंक है। समाज का सिर शर्म से झुक गया है।’


देखा जाये तो बीजेपी पर शिवसेना ने सही आरोप लगाया है। मौजूदा सरकार महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बातें तो बहुत बड़ी बड़ी करती आई है ,परन्तु वास्तव में यह जुमले से अधिक कुछ भी नहीं है। सरकार हमेशा महिलाओं की सुरक्षा सम्बन्धी मामलो में विफल साबित हुई है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved