fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

सर्जिकल स्ट्राइक पर सबूत मांगने पर बीजेपी नेता पंकजा मुंडे ने दिया विवादित बयान

BJP-leader-Pankaja-Munde-gave-controversial-statement-on-demand-for-evidence-on-surgical-strike
(Image Credits: DNA india)

लोकसभा चुनाव शुरू होने के साथ साथ राजनैतिक पार्टियों के नेताओ द्वारा बयानबाजी में भी तेजी आ गई है। इसी प्रकार बीजेपी नेताओ द्वारा भी अपने विपक्षी दल कांग्रेस के नेताओ को लेकर निशाना साधा जा रहा है। यह अक्सर देखा गया है की बीजेपी पार्टी के नेता बयानबाजी करते वक्त कुछ भी बोलने से पीछे नहीं हटते है। अक्सर बीजेपी से ही कुछ नेता विवादित बयान देते हुए सुने जा सकते है।

Advertisement

कुछ इसी प्रकार एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी के नेता द्वारा विपक्षी दल के नेता को लेकर विवादित बयान दिया गया है। दरअसल इस बार महारष्ट्र से बीजेपी मंत्री पंकजा मुंडे ने राहुल गाँधी को लेकर विवादित बयान दिया है। पंकजा मुंडे ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि राहुल गांधी के शरीर पर बम बांध देना चाहिए और उन्हें किसी दूसरे देश भेज देना चाहिए। वे (राहुल गांधी) तभी समझेंगे. पंकजा मुंडे ने यह बयान सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे पर दिया था।

पकंजा मुंडे ने अपने बयान में कहा, ‘हमारे सैनिकों पर कायराना हमले के बाद हमने सर्जिकल स्‍ट्राइक किया. कुछ लोग पूछ रहे हैं कि उसके सबूत क्‍या हैं. मैं कहती हूं हमें राहुल गांधी के साथ एक बम बांधकर उन्‍हें दूसरे देश भेज देना चाहिए था. तब उन्‍हें समझ आता.’

भाजपा मंत्री पंकजा मुंडे ने यह बयान 21 अप्रैल को दिया था। बीजेपी मंत्री पंकजा मुंडे वर्तमान में महाराष्ट्र की परली विधानसभा सीट से MLA हैं, और राज्य सरकार में मंत्री हैं। पंकजा मुंडे बीजेपी के दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी हैं। वह मौजूदा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सरकार में ग्रामीण विकास, महिला और बाल कल्याण मंत्री हैं। बता दें कि महाराष्ट्र में लोकसभा की 48 सीट हैं। पहले दो चरण का चुनाव यहां संपन्न हो चुका है जबकि तीसरे और चौथे चरण के वोट 23 और 29 अप्रैल डाले जाएंगे। जबकि वोटों का परिणाम 23 मई को पता चलेगा।

बीजेपी नेताओ द्वारा इस प्रकार का विवादित बयान देना कोई नई बात नहीं है, इससे पहले भोपाल लोकसभा सीट से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ने भी 26/11 के मुंबई हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे के ख़िलाफ़ विवादित बयान दिया था। प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि हेमंत करकरे ने उन्हें ग़लत तरीक़े से फंसाया है। भाजपा नेता प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि एक अधिकारी ने हेमंत करकरे से उन्हें छोड़ने का कहा था, लेकिन करकरे ने कहा था कि वो कुछ भी करेंगे, सबूत लाएंगे लेकिन साध्वी को नहीं छोड़ेंगे। मौजूदा सरकार वैसे तो शहीदों के हित की बात करती है, वहीँ दूसरी ओर उनके ही नेताओ द्वारा हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान देना बेहद ही निंदनीय है।


साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने हेमंत करकरे के इस क़दम को देशद्रोह करार दिया था, और इसे धर्मविरुद्ध बताया था। साध्वी ने कहा, ”ये उसकी कुटिलता थी ये देशद्रोह था धर्मविरुद्ध था, वो मुझसे पूछता था कि क्या मुझे सच के लिए भगवान के पास जाना होगा, तो मैंने कहा था कि आपको जरूरत है तो जाइए” सभा में सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा, ”मैंने उसे कहा था तेरा सर्वनाश होगा, उसने मुझे गालियां दी थीं।

बता दें कि बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद विपक्षी नेता लगातार उसके सबूत मांग रहे हैं। इसके लिए वे विदेशी मीडिया की उन रिपोर्ट्स का हवाला दे रहे हैं, जिनमें बालाकोट एयर स्ट्राइक में ज्यादा नुकसान न होने का दावा किया गया। बता दें कि मोदी सरकार के कई मंत्री इस हमले में करीब 300 आतंकियों को नुकसान पहुंचाने का दावा कर चुके हैं।

विपक्षी पार्टियों द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल पूछे जाने पर बीजेपी नेता पंकजा मुंडे द्वारा इस प्रकार का बयान देना उचित नहीं है। यह अक्सर देखा जा रहा है की जब भी कोई मौजूदा सरकार के खिलाफ सवाल उठाने की कोशिश करता है तो, पार्टी उस पर किसी भी प्रकार की बयानबाजी करने से पीछे नहीं हटती है। ऐसा प्रतीत होता है की बीजेपी नेता इस प्रकार की बयानबाजी करके विपक्षी पार्टी के प्रति अपने भय को छिपाना चाहता है।

बीजेपी नेताओ द्वारा विवादित बयान देने का प्रचलन सा बनता नजर आ रहा है। अभी एक दो दिन पहले ही में बीजेपी नेता अनुपमा जायसवाल ने मायावती और कांशीराम को लेकर विवादित बयान दिया था। पार्टी के नेताओ द्वारा इस प्रकार की बयानबाजी से पता चलता है की वह अपने विपक्षी पार्टी के प्रति कितनी गलत सोच रखते हैं। राजनीति में बयानबाजी में करना तो आम बात है लेकिन कुछ पार्टी के नेताओ को बयानबाजी करते वक्त कम से कम मर्यादाओं का तो ध्यान रखना ही चाहिए।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved