fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

गौतम गंभीर को टिकट देने पर बीजेपी में विरोध, नेताओं के नाम मांगे तो नहीं भेजा गौतम गंभीर का नाम

BJP-leaders-opposing-for-Gautam-gambhir-s-ticket,-Gautam-Gambhir's-name-has-not-been-sent-to-party-higher-authority
(Image Credits: India TV)

चुनाव के चलते पार्टियों में लोगो का चुनाव करना इस समय काफी मुश्किलें पैदा कर रहा है। सीटों पर नए उम्मीदवारों को उतारने के लिए पार्टिया नयी योजनाओ पर काम कर रही है। भाजपा सरकार को लगता है की उनके पुराने सांसदों को हटाने और नए लोगो को टिकट देने से चुनाव में जीत मिल सकती है। क्योंकि लोग पुराने सांसदों के काम से नाराज है।

Advertisement

वहीँ दूसरी और बीजेपी में नए लोगो को टिकट दिए जाने से पार्टी के लोग नाराज है। पार्टी में किसे शामिल करे या ना करे यह फैसला लेना मुश्किल हो रहा है। पिछले दिनों ही पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर बीजेपी की पार्टी में शामिल हुए थे। परन्तु पार्टी के लोग इस बात से खुश नहीं होते दिख रहे। नए उम्मीदवारों के चयन ले चलते सभी अपने नामो को आगे रख रहे है।

इसी के चलते बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्‍व ने दिल्‍ली इकाई से संभावित उम्‍म्मीदवारों की लिस्‍ट में सुधार कर दोबारा भेजने को कहा है। सूत्रों के अनुसार, दिल्‍ली की सात लोकसभा सीटों के लिए संभावित उम्‍मीदवारों की सूची में दिल्‍ली भाजपा चुनाव समिति के कई सदस्‍यों ने अपने ही नाम का प्रस्‍ताव कर दिया था। बीते शुक्रवार (22 मार्च) को यह सूची रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, दिल्‍ली भाजपा के संगठन सचिव सिद्धार्थन और जयभान सिंह पवैया समेत वरिष्‍ठ नेताओं को भेजी गई थी।

नई दिल्‍ली लोकसभा सीट के लिए जिन नामों का सुझाव दिया गया, उनमे दिल्‍ली भाजपा प्रभारी और राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष श्‍याम जाजू, दिल्‍ली भाजपा महासचिव राजेश भाटिया, सांसद मीनाक्षी लेखी शामिल हैं। ये तीनों ही उस चुनाव समिति के सदस्‍य हैं जिसे हाईकमान को नामों की सूची भेजने का जिम्‍मा सौंपा गया था। संभावित उम्‍मीदवारों की भेजी गई सूची में भाजपा महासचिवों- चांदनी चौक से रविंदर गुप्‍ता और पूर्वी दिल्‍ली से कुलजीत चहल और दिल्‍ली विधानसभा में नेता विपक्ष विजेंदर गुप्‍ता के नाम भी शामिल थे। यह भी उस 15 सदस्‍यीय चुनाव समिति के सदस्‍य हैं।

जिस दिन केंद्रीय नेतृत्‍व को यह नाम सौंपे गए, उसी दिन क्रिकेटर गौतम गंभीर बीजेपी में शामिल हुए थे। हालांकि उनका नाम दिल्‍ली भाजपा चुनाव समिति द्वारा भेजे गए 21 संभावित उम्‍मीदवारों की सूची से गायब था। उन्‍हें नई दिल्‍ली लोकसभा सीट से चुनाव लड़ाने की संभावना है मगर बताया जाता है दिल्‍ली भाजपा के एक समिति को इस पर आपत्ति है।


सूत्रों के मुताबिक जिस तरह से राज्‍य इकाई ने गंभीर के मसले को हैंडल किया, उससे भाजपा का केंद्रीय नेतृत्‍व खुश नहीं था। सूत्रों अनुसार, यह भी एक वजह थी जिसके चलते पार्टी ने उम्‍मीदवारों की घोषणा की तारीख बदल दी। जनसत्ता खबर के अनुसार, “25 मार्च को घोषणा होनी थी मगर अब दो-तीन दिन और लग जाएंगे।”

लगता है की भाजपा पार्टी में गौतम गंभीर के आने से पार्टी के लोग खुश नहीं। उमीदवारो की जगह पाने के लिए कई ऐसे लोग है जो कब से इंतजार कर रहे है परन्तु गंभीर के आने से कई लोगो को टिकट मिलने में दिक्कत हो सकती है।

चुनाव आयोग को दिए लिस्ट में खुद के नामो को आगे कर गौतम गंभीर को बाहर का रास्ता दिखने का संकेत दे दिया है। चुनाव पास है और क्या अब गौतम गंभीर को चुनाव लड़ने का मौका मिल सकता है या नहीं यह तो समय बताएगा। और चुनाव भी लड़ते है तो क्या बीजेपी को इससे कोई फायदा मिलता है या नहीं यह तो चुनाव के बाद पता चलेगा

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved