fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

BJP की सदस्यता लेने से पहले बतानी होगी जाति

bjp-membership-campaign-form-caste-class-column-madhya-pradesh-politics

भारतीय जनता पार्टी इन दिनों देशभर में सदस्यता अभियान चलाकर लोगों को पार्टी से जोड़ने में लगी है। लेकिन इसी सदस्यता अभियान के भरवाए जा रहे फॉर्म ने मध्य प्रदेश की राजनीति में विवाद खड़ा कर दिया है।  इस फॉर्म में बीजेपी सदस्यता लेने वालों से उनकी जाति के बारे में भी पूछ रही है। 

Advertisement

2014 और 2019 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी को मिली जीत के पीछे यह दावा किया गया था कि भारतीय जनता पार्टी को जातिगत समीकरणों से ऊपर जाकर सभी जाति और वर्ग के लोगों ने वोट दिए हैं।  देश को सबसे ज्यादा प्रधानमंत्री देने वाला राज्य उत्तर प्रदेश जो कि जातिगत समीकरणों की सबसे बड़ी प्रयोगशाला भी है, वहां पर भी पिछले दो लोकसभा चुनाव और इस बीच हुए विधानसभा चुनाव में जिस तरह से बीजेपी को सभी जातियों के वोट मिले उसे देखकर यही लगा कि बीजेपी ने वाकई देश में जातिगत वोट बैंक की राजनीति को कहीं पीछे छोड़ दिया था।  पर यह सभी बाते भारतीय जनता पार्टी के लिए सोचना लोगो की भूल थी। वही अब भारतीय जनता पार्टी देशभर में इन दिनों जो सदस्यता अभियान चला रही है उस में सदस्यता लेने के लिए भरवाए जा रहा फॉर्म में लोगों से उनकी जाति का वर्ग भी पूछ रही है। 

भारतीय जनता पार्टी के सदस्यता अभियान के फॉर्म में नए सदस्यों से यह पूछा जा रहा है कि वह किस जाति वर्ग से संबंध रखते हैं।  फॉर्म में बकायदा इसके लिए 5 विकल्प भी दिए गए हैं।  जिसमें नए बनने वाले सदस्य को यह बताना होगा कि वह सामान्य, ओबीसी, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति या अन्य जाति वर्ग से है. बीजेपी के सदस्यता फॉर्म में जब जाति का कॉलम आया तो मध्य प्रदेश की राजनीति में  विवाद खड़ा हो गया और कांग्रेस ने इसके लिए बीजेपी को आड़े हाथ ले लिया। 

कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा ने कहा, ‘भारतीय जनता पार्टी हमेशा से जातिगत राजनीति करती आई है।  यह बात अलग है कि चुनाव में पीएम मोदी को बोलते सुना था कि हम जातिगत राजनीति नहीं करते और यह राजनीति बीएसपी और समाजवादी पार्टी करती है। लेकिन असलियत यह है कि बीजेपी हमेशा से इसी तरह से बंटवारे की राजनीति करती आई है और इसी का प्रमाण है कि वह अपने मेंबरशिप फॉर्म में लोगों से पूछ रहे हैं वह किस जाति के हैं.’

सदस्यता फॉर्म में जाति पर विवाद बढ़ा तो सदस्यता अभियान के राष्ट्रीय प्रभारी और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को खुद सामने आना पड़ा।  शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस के आरोपों को दकियानूसी बताते हुए कहा की पार्टी समाज के हर वर्ग को साथ में लेकर चलना चाहती है और इसके लिए ही यह सारी कवायद की जा रही है।  वहीं शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस को नसीहत दी कि पार्टी पहले अपने अध्यक्ष पद की खोज को पूरा कर ले फिर बात करे।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved