fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

भाजपा सांसद शरद त्रिपाठी ने भरी सभा में बीजेपी विधायक राकेश सिंह बघेल पर किया जूतों से हमला

BJP-MP-Sharad-Tripathi-attacked-with-shoes-on-BJP-MLA-Rakesh-Singh-Baghel-in-a-crowded-meeting
(Image Credits: ThePost24.com)

आपने पक्ष-विपक्ष को लड़ते खूब देखा होगा। यहाँ तक की पार्टिया एक दूसरे पर अभद्र भाषा की बरसात करते नहीं थकती। अक्सर ऐसे मामले सामने आये है जिनमे दो पार्टी के लोग आपस में तू-तू में-में करते हुए एक दूसरे पर चढ़ जाते है। परन्तु इस बार एक ऐसा वाकया सामने आया है जिसमे एक ही पार्टी के दो लोग एक दूसरे को पीटने लगे। उत्तर प्रदेश से घटना सामने आयी है की बैठक में बैठे एक ही पार्टी के सांसद और विधायक आपस में भीड़ गए।

Advertisement

जी हाँ एक ही पार्टी के सांसद और विधायक दोनों ही भाजपा सरकार के थे। यह मारपीट सिर्फ सड़क निर्माण के श्रेय लेने को लेकर हुई। सूत्रों ने बताया कि कलेक्ट्रेट सभागार में जिला योजना समिति की बैठक चल रही थी। वहाँ जिले के प्रभारी मंत्री आशुतोष टंडन मौजूद थे। इसी बीच संत कबीरनगर से भाजपा सांसद त्रिपाठी और मेंहदावल से भाजपा विधायक बघेल के बीच सडक निर्माण का श्रेय लेने को लेकर कहासुनी हो गयी। मामला कहासुनी तक ही नहीं रुकी। दोनों आपस में भिड़ गये। एक ने दूसरे को मारने के लिए जूता निकाल लिया और फिर जूतों से मारपीट शुरू हो गई। प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों ने किसी तरह बीच बचाव कर मामला शांत कराया।

इनकी मारपीट का वीडियो सोशल नेटवर्क पर आने के बाद पार्टी की आलोचना होने लगी। परन्तु देखते ही देखते इनकी वीडियो ट्विटर पर ट्रेंड में छा गयी। बीजेपी को लोग ट्रोल भी करने लगे। सोशल मीडिया पर देखते ही देखते ‘मेराबूट सबसे मजबूत’ हैशटैग ट्रेंड करने लगा। लोग इस वीडियो को ट्विटर पर इस हैशटैग के साथ शेयर करने लगे और सांसद-विधायक के साथ-साथ बीजेपी की भी आलोचना करने लगे। कुछ लोगों ने बीजेपी के स्लोगन ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ को लेकर कहा कि अब समझ में आया कि भाजपा का स्लोगन #MeraBoothSabseMazboot नहीं, बल्कि #MeraBootSabseMazboot है।

एक यूजर ने ट्विटर पर वीडियो शेयर किया और मज़ाक बनाते हुए लिखा कि यह सर्जिकल स्ट्राइक तीन है। इस वक्त तो सबूत भी है. इन्होंने भी मेरा बूट सबसे मजबूत हैशटैग लगाया है।

बताया जा रहा है की संतकबीर नगर के मेंहदावल क्षेत्र में सडक निर्माण की शिला पत्थर से सांसद का नाम गायब था, जिसे लेकर बवाल हुआ. भाजपा के जिलाध्यक्ष सेत भान राय से जब इस बात पर सवाल किया गया तो उन्होंने बताया कि मंत्री ने उनसे फोन पर बात की और कहासुनी के बारे में बताया। उन्होंने कहा, ”उस समय मैं अन्यत्र बैठक में था। प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने भी घटना के बारे में जानकारी मांगी।


प्रदेश अध्यक्ष ने मामले का गंभीरता से संज्ञान लेते हुए सांसद शरद त्रिपाठी एवं विधायक राकेश सिंह बघेल को तुरंत लखनऊ बुलाया है उधर, विधायक बघेल के समर्थक परिसर में ही धरने पर बैठ गये हैं। जिलाधिकारी आर के गुप्ता ने बताया कि संसद को परिसर से निकाल लिया गया है. जांच के बाद आगे कार्रवाई की जाएगी।

दूसरी पार्टी को गैरजिम्मेदार बताने वाली भाजपा सरकार अब अपने ही लोगो की शर्मनाक हरकत कैसे छुपाएगी। मोदी सरकार बोलती है की देश सुरक्षित हाथो में है परन्तु जहां एक ही पार्टी के सांसद और विधायक एक छोटा श्रेय लेने के लिए आपस में ही भीड़ जाए तो वह देश कैसे सुरक्षित रहेगा। कैसे सुरक्षित रहेगा देश जब पार्टियों में ऐसे विधायक और सांसद अपने लोगो से भीड़ जाये।

ट्विटर पर लोगो ने भाजपा सरकार को घेर लिया है और जम कर मज़ाक उड़ाया जा रहा है और उड़ाए भी क्यों न काम ही ऐसा किया है जो शर्मनाक कही जाने वाली है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved