fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने भी एयर स्ट्राइक को लेकर माँगा सबूत

(Image Credits: News State)

इंडियन एयर फाॅर्स द्वारा पडोसी मुल्क पर कार्रवाई करने के बाद विपक्षी पार्टियां इसको लेकर लगातार सरकार से सबूत मांग रही है। जहाँ विपक्ष पार्टियों द्वारा वायुसेना की कार्रवाई पर सबूत माँगा जा रहा है। वहीँं अब मौजूदा सरकार के सांसद ने भी पार्टी से इस बारे में सवाल पुछना शुरू कर दिया है। हम बात कर रहे हैं, पटना साहिब से भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा की। एक दिन पहले ही उन्होंने भारतीय जनता पार्टी से बालाकोट हवाई हमले में आतंकियों के प्रभावित होने के सबूत मांगे हैं। साथ ही उन्होंने कहा की सरकार को हवाई हमले के सबूत के साथ सामने आना चाहिए।

Advertisement

इस मामले में सवाल पूछना जायज है क्यूंकि सरकार द्वारा देश हित में की गई कार्रवाई के बारे में विपक्षी पार्टियों को जानने का हक़ है। लेकिन मौजूदा सरकार किसी के द्वारा भी सवाल पूछे जाने पर उस पर देशद्रोही का टैग लगा देती है। मात्र सवाल पूछने पर किसी को राष्ट्रद्रोह के नजरिये से देखना उचित नहीं है।

सेना की कार्रवाई के बाद बीजेपी के ही कुछ बड़े नेताओं द्वारा इससे प्रभावित हुए आतंकी के बारे में अलग अलग बयान दिये जा रहे है। अब इससे यह तो जरूर शाबित होता है की, इस मामले में सरकार को भी सही सही अनुमान नहीं है की वास्तव में इस कार्रवाई से कोई प्रभावित हुआ भी है या नहीं। बीजेपी मंत्रियो द्वारा इसको लेकर जनता के सामने कुछ भी आकड़े रख देने से यह पता चलता है की, वो सिर्फ इसका राजनितिक फायदा उठाना चाहते हैं।

पटना साहिब से सांसद ने इस बारे में कहा की, राधामोहन सिंह (कैबिनेट मंत्री) और उत्तर प्रदेश के मुक्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कह रहे है की कार्रवाई में 400 आतंकी प्रभावित हुए। अलग अलग टीवी चैनल पर सरकार का कोई रागदरबारी कह रहा है कि 300 प्रभावित हुए हैं तो कोई कह रहा है 500 आतंकी मारे गये हैं।

उन्होंने आगे कहा, ऐसे हालात में विपक्ष पार्टियों के साथ-साथ देश की जनता भी यह जानना चाहती है कि कितने आतंकी प्रभावित हुए हैं। सेना के पराक्रम की कहानी के साथ हमले को किस हद तक अंजाम दिया गया है। अगर यह केंद्र सरकार बता देगी तो, मैं समझता हूं कि जनता का हौसला भी बुलंद होगा। और इसके साथ जब सरकार की सच्चाई सामने आएगी तो सरकार की वाहवाही भी होगी।


यहाँ देखने वाली बात यह है की इस मामले में रक्षा मंत्रालय कुछ भी बोलने की स्तिथि में नहीं है। और हमें नहीं मालूम की भाजपा के मंत्रियो को इस बारे में आंकड़े कहाँ से प्राप्त हो गए। वहीँ इस मामले प्रेसवार्ता में कुछ दिनों पहले ही वायुसेना के एयर वाईस मार्शल ने कह दिया था की, उन्होंने सिर्फ उनको दिए हुए टारगेट को हिट किया था। अब इसके बाद कितने लोगो को इससे नुकसान पंहुचा है, यह कहा नहीं जा सकता है।

शत्रुघ्न सिन्हा द्वारा पार्टी से सवाल पूछना कोई आम बात नहीं है। पहले भी उन्होंने मोदी सरकार को कालेधन और भ्र्ष्टाचार के मुद्दों पर घेरा था। इसके साथ साथ उन्होंने सरकार द्वारा राफेल विमानों के खरीद फरोक से सम्बंधित विषयों पर भी सवाल पूछे थे। सांसद शत्रुघ्न सिन्हा अपनी सरकार से सिर्फ सही मुद्दों पर सवाल ही नहीं पूछते हैं बल्कि कई बार तो वह विपक्षी पार्टियों के साथ मंच भी साझा करते हुए देखे जा सकते है।

जब उनसे जम्मू कश्मीर में CRPF के काफिले के साथ हुई घटना के बारे मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बयान के बारे में पुछा गया तो उन्होंने कहा, “मैं शब्दों के हेरफेर या जाल में नहीं पड़ना चाहता हूं। मैं इतना ही कहूंगा कि मैं दिग्विजय सिंह का बहुत आदर करता हूं। वह बहुत परिपक्व आदमी हैं। देश के लिए उन्होंने काफी योगदान दिया है। उनकी छवि काफी अच्छी है। ऐसा लग रहा है, वह कहना कुछ चाहते थे लेकिन शब्द कुछ और निकल गया ।”

बता दें कि बिहार के पटना साहिब से बीजेपी के सांसद पिछले दो साल से वे किसी वजह से अपनी ही पार्टी से काफी नाराज चल रहे हैं। उन्हें जब भी मौका मिलता है, वे पीएम नरेंद्र मोदी पर सवाल उठाने से पीछे नहीं हटते हैं। इसी तरह गुरुवार को भी उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ जमकर भड़ास निकाला। साथ ही राफेल के मुद्दे पर निशाना साधा और राफेल के दस्‍तावेज की चोरी होने को देश के लिए शर्मनाक बताया।

वायुसेना द्वारा की गई कार्रवाई के बाद इसके सबूत को लेकर बीजेपी फसती हुई नजर आ रही है। उनके ही नेताओं द्वारा सबूत को लेकर अलग अलग आकड़े दिए जा रहे हैं। जिसको लेकर सभी विपक्षी पार्टियों ने भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। देखा जाए तो सवाल पूछने में कोई बुराई भी नहीं है, विपक्ष का काम ही होता है की, सरकार द्वारा लिए गए निर्णयों पर उन्हें जवाबदेह बनाना। देश को सेना के पराक्रम पर कोई शक नहीं है। परन्तु इसके साथ साथ लोकतंत्र में विपक्ष पार्टियों के साथ साथ नागरिकों को सवाल पूछने का पूरा हक़ है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved