fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

भाई पर आयकर के छापे का मायावती ने बताया पूरा सच, मोदी सरकार को जमकर लताड़ लगाई

bsp-chief-mayawati-on-bjp-and-narendra-modi-aanad-kumar-wealth-rise-income-tax-department-raid

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने भाई और पार्टी उपाध्यक्ष आनंद कुमार पर आयकर विभाग की छापेमारी को राजनीति से प्रेरित कार्रवाई करार दिया है।  मायावती ने शुक्रवार सुबह प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केंद्र की मोदी सरकार पर सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग का आरोप लगाया।

Advertisement

सत्तारूढ़ भाजपा की सरकार ने अपने अधिकारों का गलत तरीके से इस्तेमाल कर बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ किया है। मायावती ने कहा की इस तरह का कदम उठाने से पहले बीजेपी को अपने गिरेबान में झांकना चाहिए। भारतीय जनता पार्टी के नेताओ और उनके परिवार की सम्पत्ति राजनीति में आने के बाद कितनी बढ़ी है। भाजपा के अध्यक्ष रहे अमित शाह के बेटे जय शाह की संपत्ति में कुछ माह के भीतर ही सोलह सौ गुना इज़ाफ़ा होना इसका उदहारण रहा है पर भाजपा के द्वारा इसपर कोई करवाई नहीं की जाती।

आयकर विभाग की इस कार्रवाई के बाद मायावती ने भारतीय जनता पार्टी और केंद्र की मोदी सरकार पर इस पुरे मामले में जमकर लताड़ लगाई है।

बसपा मुखिया मायावती ने आयकर विभाग की कार्रवाई के बाद गुरुवार को ट्वीट करते हुए कहा, ‘बीजेपी केंद्र की सत्ता का अभी भी दुरुपयोग कर अपने विपक्षियों को षडयंत्र के तहत जबरन फर्जी मामलों में फंसाकर उन्हें प्रताड़ित कर रही है। इसी क्रम में अब मेरे भाई-बहनों आदि को भी जबरदस्ती परेशान किया जा रहा है, जो अति-निंदनीय है, लेकिन इससे बीएसपी डरने व झुकने वाली नहीं है। ऐसी ही घिनौनी हरकत इसी पार्टी की सरकार ने सन् 2003 में भी आयकर व सीबीआई आदि के जरिए हमारे विरूद्ध की थी, जो सर्वविदित है, जिसमें फिर हमें अंत में काफी संघर्ष के बाद माननीय सुप्रीम कोर्ट में न्याय मिला।’

इसके बाद मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा, ‘भारतीय जनता पार्टी को पहले खुद की जांच करनी चाहिए। अगर उन्हें लगता है कि वे बहुत ईमानदार हैं तो उन्हें जांच करानी चाहिए कि राजनीति में आने से पहले उनके और उनके परिवार के पास कितनी संपत्ति थी और अब कितनी है। इससे देश के सामने सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा। भाजपा और आरएसएस दोनों ही जातिवादी हैं। वे शिक्षा, व्यवसाय या किसी भी अन्य क्षेत्र में दलितों और अन्य पिछड़े वर्गों के विकास को नहीं देखना चाहते हैं। इन वर्गों के विकास में रुकावट पैदा करने के लिए ये लोग विभिन्न तरीकों का उपयोग कर रहे हैं लेकिन हमारी पार्टी इन लोगों के विकास के लिए काम कर रही है।’


मायावती ने आगे कहा, ‘जब उनकी पार्टी का कोई अपना सदस्य या उनसे संबंधित कोई व्यक्ति रातोंरात अमीर बन जाता है तो वे इसे हमारे खिलाफ बताकर ठीक मानते हैं, लेकिन अगर हमारे समुदाय का कोई व्यक्ति आगे बढ़ता है तो उन्हें इससे समस्या होती है। वो भी तब, जब वो लगातार हमारे खिलाफ सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर रहे हैं। बहुजन समाज पार्टी सरकार की इस कार्रवाई की निंदा करती है।’ आपको बता दें कि मायावती ने हाल ही में लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद अपने भाई आनंद कुमार को बीएसपी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया था। जिसके बाद से ही उनके भाई पर भाजपा की नज़र थी वह उन्हें लगतार किसी न किसी मामले में परेशान कर रहे है। 

उन्होंने कहा कि बहुजन समाज के आगे बढ़ने इन्हें तकलीक होती है।  खुद को हरिशचंद्र मानने वाली बीजेपी बताए चुनाव के वक्त उनके पास 2 हजार करोड़ रुपये कहां से आए, ये बेनामी संपत्ति नहीं? मायावती ने कहा कि मोदी-शाह की कंपनी से मेरा सवाल कि दफ्तर बनाने के लिए अरबों खरबों रुपये कहां से आए, क्या ये बेनामी नहीं? मायावती ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने वोट खरीद कर और ईवीएम के इस्तेमाल से सत्ता हासिल की है। 

उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता राजनीति में आने से पहले और अब की मौजूदा संपत्ति का आंकड़ा दें. मायावती ने लोगों से अपील की कि मेरे भाई पर कार्रवाई से डरने की जरूरत नहीं, अपने कारोबार पर ध्यान दें. RSS-BJP की कंपनी से घबराने की जरूरत नहीं। 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved