fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

मोदी के नाम पर बीजेपी में बड़ी मात्रा में अपराधी सांसद पहुंचे संसद

Criminal-MP-arrives-in-Parliament-in-large-numbers-in-BJP-on-Modi's-name
(Image Credits: otv)

लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की प्रचंड जीत हुई बीजेपी ने अपने दम पर 300 का आकड़ा पार कर लिया और देश भर से बड़ी मात्रा में भारतीय जनता पार्टी के सांसद जीत के आए। सभी को पता है की भारतीय जनता पार्टी में इन सांसदों की जीत के पीछे मोदी का नाम है।

Advertisement

बीजेपी के लगभग सभी उम्मीदवारो को मोदी के नाम पर वोट मिले है जिसके कारण ऐसे ऐसे उम्मीदवार भी जीत कर संसद पहुँच गए है जिनपर कई आपराधिक मामले दर्ज है, मामले भी कोई छोटे नहीं है किसी पर आतंकवाद का तो किसी पर दुष्कर्म करने का तो किसी पर धारा 307 तक लगी हुई है।

एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिपोर्ट के अनुसार हाल ही में लोकसभा के लिये चुने गए करीब आधे सांसदों पर आपराधिक आरोप हैं. 2014 के मुकाबले इसमें 26 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। एडीआर ने चुनाव जीतकर आए 539 सांसदों का विश्लेषण किया जिनमें से करीब 233 अथवा 43 प्रतिशत सांसदों पर आपराधिक आरोप हैं।

एडीआर ने कहा कि चुनाव जीतकर आए बीजेपी के 116 सांसदों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज है बीजेपी के कुल जीते उम्मीदवारों में से 39 प्रतिशत उम्मीदवारों के खिलाफ यह मामले दर्ज हैं। इसके बाद कांग्रेस के 29 सांसदों पर तो जदयू के 13 , द्रमुक के 10 और तृणमूल कांग्रेस के नौ सांसदों पर मामले दर्ज है। 2014 में कुल 543 सांसदों में से 184 (34 प्रतिशत) सांसदों के खिलाफ आपराधिक आरोप थे. इनमें से 112 के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज थे. 2009 में यह आंकड़ा 162 (करीब 30 प्रतिशत) था। इनमें से 14 फीसदी सदस्यों के खिलाफ गंभीर आपराधिक आरोप थे.

गैर सरकारी संगठन ने कहा कि नई लोकसभा में, करीब 29 प्रतिशत मामले दुष्कर्म, आतंकवाद का मामला, धारा 307, 308 अथवा महिलाओं के खिलाफ अपराध इत्यादि को लेकर सांसदों पर मामले दर्ज है। रिपोर्ट में कहा गया है कि “2009 के मुकाबले 2019 में गंभीर आपराधिक रिकॉर्ड वाले सांसदों की संख्या में 109 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.”


आपराधिक मामलो के अलावा कई सांसद ऐसे भी है जो करोड़पति है नई लोकसभा में कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ सबसे अमीर सांसद है। एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रटिक रिफॉर्म्स के मुताबिक नई लोकसभा में कुल 475 सांसद करोड़पति हैं, इनमें मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ शीर्ष पर हैं। एडीआर ने 539 नए सांसदों के हलफनामे में बताई गई संपत्ति और देनदारियों का विश्लेषण करने के बाद ‘करोड़पति’ सांसदों की सूची जारी की है।

एडीआर ने कहा कि वह 542 नवनिर्वाचित सांसदों में से तीन सांसदों के हलफनामे नहीं पा कर सकी, इनमें बीजेपी के दो और कांग्रेस के एक सांसद शामिल हैं। बीजेपी ने 17वीं लोकसभा के लिये हुए चुनाव में 303 जबकि कांग्रेस ने 52 सीटों पर जीत हासिल की है.

बीजेपी के 301 सांसदों में से 265 करोड़पति हैं. वहीं एनडीए में बीजेपी के सहयोगी दल शिवसेना के सभी 18 सांसदों की संपत्ति एक करोड़ से ज्यादा है. कांग्रेस के जिन 51 सांसदों के हलफनामों का विश्लेषण किया गया, उनमें से 43 सांसद करोड़पति पाए गये। इसी तरह द्रमुक के 23 में से 22 , तृणमूल कांग्रेस के 22 में से 20, एडीआर के मुताबिक शीर्ष तीन करोड़पति सांसद कांग्रेस के हैं।

इनमें मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा से चुनाव जीते नकुलनाथ पहले पायदान पर हैं जिन्होंने अपनी संपत्ति 660 करोड़ रुपये घोषित की है. इसके बाद तमिलनाडु के कन्याकुमारी से सांसद वसंतकुमार एच के पास 417 करोड़ रुपये और कर्नाटक के बेंगलुरू ग्रामीण से चुनाव जीते डी के सुरेश की 338 करोड़ रुपये की संपत्ति है। लोकसभा चुनाव में जीते सांसदों की औसत संपत्ति 20.93 करोड़ है. नई लोकसभा के 266 सदस्य ऐसे हैं जिनकी संपत्ति पांच करोड़ या उससे ऊपर है. 2014 में करोड़पति सांसदों की संख्या 443 थी जबकि 2009 में यह आंकड़ा 315 था।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved