fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

RSS और BJP के खिलाफ मोर्चा, किसान बोले अब नहीं आने देंगे मोदी को

farmers-protest-against-RSS-and-BJP-said-this-time-will-not-let-modi-come
(Image Credits: The Hindu)

किसानो और मजदूरों के हक़ में बात करने वाली मोदी सरकार पर से अब देश वासियों का भरोसा उठता जा रहा है। आरएसएस और बीजेपी को सपोर्ट करने वाले लोग अब दोनों से ही किनारा करते नजर आ रहे है। ख़ास किसान लोग अब मोदी पर भरोसा करने से पीछे हट रहे है। सालो से बीजेपी पर भरोसा करने वाले लोग अब उनको वोट न देने का मन बना रहे है।

Advertisement

एक सर्वे के मुताबिक, सुदूर केरल संसदीय सीट पर दलित और किसानों की कुल आबादी में भागेदारी करीब 20 पर्सेंट है। हालांकि, स्थानीय सामाजिक संगठनों की राय है कि समाज के इस तबके को सरकारी योजनाओं का कोई खास लाभ नहीं मिला। ऐसे में पार्टियां किसानों को अपनी ओर लुभाने की कोशिश में नजर आ रही हैं। इसी क्रम में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी हाल ही में यहां किसानों की विधवाओं से मुलाकात की। ये वे महिलाएं थीं, जिनके पतियों ने आर्थिक स्तिथि से तंग आकर अपनी जान दे दी थी। केरल कांग्रेस के सचिव केके अब्राहम के मुताबिक, गरीबी की वजह से बीते 5 महीने में केरल के 25 किसानों ने जान दे दी है। इनमें से 8 वायनाड से थे।

इसी के चलते आरएसएस और बीजेपी को बचपन से सपोर्ट देने वाले एक किसान ने बीजेपी को वोट न देने का मन बना लिया है। हलाकि ऐसे और भी कई किसान है जो बीजेपी को छोड़ दूसरी पार्टियों को वोट देने की तैयारी में है।

मुसीबत का सामना कर रहे राज्य के किसानों में से एक धानिल दिवाकरन बचपन से ही संघ परिवार से जुड़े हुए हैं। द टेलिग्राफ में प्रकाशित खबर के मुताबिक, एमबीए की डिग्री पाने वाले यह किसान फिलहाल यह तय कर रहा है कि वह अन्य पार्टी को वोट दे। हालांकि, दिवाकरन यह तय कर चुके हैं कि वह पांच साल पुरानी गलती को नहीं दोहराएंगे और फिर से बीजेपी को दोबारा से वोट नहीं देंगे। 2014 में उन्होंने पीएम मोदी के नाम पर अपने संसदीय क्षेत्र में एनडीए प्रत्याशी को वोट दिया था। बता दें कि यहां किसानों के हालात बदतर हो चले हैं। बैंकों के बढ़ते लोन के बोझ और फसलों की सही कीमत न मिलने की वजह से किसान अपनी जान गवा रहे है।

कई किसानो ने अपने हालात के बारे में बताया। लगभग सभी घरो के हालात ऐसे है जिनमे अपने परिवार के सदस्यों को खोया है। बीजेपी द्वारा लाये गए स्कीम से किसानो को कोई लाभ नहीं मिल रहा। किसानो ने साफ़ कर दिया है की इस बार मोदी सरकार को वापस नहीं लाएंगे। किसानो ने जो पांच साल भुगता है वह वापस नहीं भुगतेंगे।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved