fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

गोवा और कर्नाटक की स्थिति पर पूर्व बीजेपी मंत्री का तंज, गोवा और कर्नाटक से ‘मानसून’ जल्‍द ही पहुंचेगा मध्‍यप्रदेश

Former-BJP-minister's-taunt-on-condition-of-Goa-and -Karnataka,-'monsoon'-from-Goa-and-Karnataka-will-soon-reach-Madhya -Pradesh
(image credits: patrika)

गोवा और कर्नाटक में विधायकों को लेकर चल रहे सकंट को लेकर कांग्रेस पार्टी बीजेपी पर आरोप लगा रही है। वहीं इसी बीच पूर्व बीजेपी नेता ने एक बयान देकर इन आरोपों को कहीं न कहीं शाबित कर दिया है।

Advertisement

दरअसल बीजेपी के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दोनों राज्यों में मौजदा स्थिति पर तंज कसा है। उन्होंने कहा है की, ‘मेरे पास एक व्हाट्सऐप आया है, गोवा के समंदर से मानसून उठा है, कर्नाटक होते मध्‍यप्रदेश की ओर बढ़ रहा है. कुछ दिनों बाद मध्‍यप्रदेश का मौसम सुहाना होगा.’ वहीं कांग्रेस कह रही है कि सरकार को कोई खतरा नहीं।

ऐसा कहकर उन्होंने यह जताने की कोशिश की है की जो हालत गोवा कर्नाटक में बनी हुई है, कुछ वैसा ही मध्यप्रदेश में भी होने वाला है। इस मामले में खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा, ‘मध्यप्रदेश में कोई संकट नहीं है.’ स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने उनकी हां में हां मिलाते हुए कहा कि राज्‍य सरकार पर ना कोई खतरा था, ना है, ना रहेगा। 5 साल का कार्यकाल सरकार पूरा करेगी। वहीं खनन मंत्री प्रदीप जायसवाल ने कहा कि 7 महीने से वो (बीजेपी) सपना देख रही है वो साकार नहीं होने वाला। साथ ही उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि फिलहाल 121 विधायक साथ हैं, आगे 125 साथ होंगे।

बता दें 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 114 और बीजेपी को 109 सीटें मिलीं, हाल ही में अभी झाबुआ से विधायक सांसद बन गये हैं इसलिये अब बीजेपी के पास 108 विधायक बचे हैं, और बहुमत का आंकड़ा 116 है। राज्य सरकार के पास 1 सपा, 2 बीएसपी और 4 निर्दलीयों का समर्थन हासिल है। कांग्रेस को लगता है, 121 का आंकड़ा उसके पास रहेगा और बीजेपी सपने देख रही है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया इस पर कहते है, ‘जहां तक मध्यप्रदेश की बात है, यह मुंगेरीलाल के हसीन सपने देखने जैसा ही होगा.’ लेकिन बीजेपी की खुशी भी बिना वजह नहीं है। वहीं सरकार को समर्थन दे रही बसपा विधायक रामबाई ने शुक्रवार को विधानसभा में अपने परिवार को एक मामले में फंसाए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि अगर उनके परिवार को न्याय नहीं मिल पा रहा तो राज्य में किसे न्याय मिलेगा।


बसपा विधायक संजू सिंह कुशवाह ने रामबाई का समर्थन किया, हालांकि विधानसभा अध्यक्ष ने सदन में इस मुद्दे पर चर्चा करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया, क्योंकि यह मामला पहले से ही अदालत में है।

मध्यप्रदेश विधानसभा में बजट के दौरान चर्चा करते हुए विपक्ष नेता ने कटाक्ष किया कि कमलनाथ सरकार 1/3 के गार्ड के साथ चल रही है। हालाँकि कमलनाथ ने इस बात से सहमति जताई, परन्तु साथ में यह भी कहा की उन्होंने विधायक की बात सुनने और उनके सुझाव लेने की ज़िम्मेदारी मंत्रियों को सौंपी रखी है। मुख्यमंत्री ने भी सरकार पर खतरे से इंकार करते हुए कहा, “आप गोवा और कर्नाटक की तुलना एमपी से नहीं कर सकते हैं, क्योंकि वहां की चीजें एमपी से बिल्कुल अलग हैं. मध्‍यप्रदेश में कांग्रेस सरकार को कोई खतरा नहीं है।

पूर्व बीजेपी मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बयानों से पता चलता है की, बीजेपी कर्नाटक और गोवा की तरह हो मध्यप्रदेश में भी राज्य में राजनीतिक अस्थिरता लाना चाहती है। जो की उचित नहीं है, और साथ में उन्हें यह भी सोचना होगा की, वह दोनों राज्यों की तुलना मध्यप्रदेश से नहीं कर सकते हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved