fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

गुजरात: महिलाओं ने कहा- आधे गांव को नहीं मिल रहा पीने का पानी, BJP मंत्री बोले- मुझे वोट भी आधे लोगों ने ही दिया था

Gujarat:-Women-said - half-a-village-is-not-getting-drinking-water,-BJP -minister-says -even-i-was-voted-by-the-half-of-village-people
(Image Credits: Aaj Tak)

कहते हैं देश की हरेक जनता को पीने का स्वच्छ पानी मुहैया करवाना सरकार की जिम्मेदारी होती है। लेकिन असल में इस तरह की बाते सिर्फ सुनने में आती है। ऐसा हम इसलिए कह रहे है। क्यूंकि हाल ही में बीजेपी मंत्री द्वारा अपने राज्य के एक गांव को पानी की समस्या को वोट के लिए अनदेखा करने की बात सामने आई है।

Advertisement

दरअसल गुजरात से जल आपूर्ति मंत्री कुंवरजी बावलिया उस वक्त कैमरे में कैद हो गए। जब कुछ महिलाओं ने उनसे पीने के पाने की समस्या को लेकर शिकायत की तो उन्होंने जवाब में कहा कि क्या आप लोगों ने मुझे वोट दिया था।

बीजेपी मंत्री द्वारा इस प्रकार का जवाब देना उचित नहीं है। उन्हें ये मालुम होना चाहिए की पानी पर सबका समान अधिकार है। प्रदेश की जनता को पानी मुहैया करवाना सरकार की ही जिम्मेदारी होती है। किसको वोट देना है या नहीं देना यह जनता की अपनी पसंद है। लेकिन वोट के आधार पर आप किसी को पानी से वंचित रखे ये बिल्कुल भी सामान्य नहीं होगा। ऐसा करके बीजेपी मंत्री आम लोगो के साथ बदले की राजनीति कर रहे हैं।

मंत्री कुंवरजी बावलिया का वीडियो वायरल होने के बाद उन्होंने अपनी सफाई देते हुए कहा की, सवाल “अशिक्षित महिलाओं” ने किए थे और ये स्थानीय राजनीति से प्रेरित थे। बता दें की बावलिया पिछले साल ही कांग्रेस का साथ छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। इसके बाद उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया था। उन्होंने गुजरात की जसदण विधानसभा सीट पर उपचुनाव में जीत भी हासिल की थी।

मामला तब का है जब कनसारा गांव में भाजपा उम्मीदवार के लिए प्रचार कर रहे मंत्री को गांववालों के गुस्से का सामना करना पड़ा, इनमें ज्यादात्तर महिलाए थीं, जो शिकायत कर रही थीं कि आधे गांव को ही पीने का पानी मिल पाता है। इसके जवाब में मंत्री ने कहा कि पिछली बार केवल 55 फीसदी गांववालों ने ही मुझे वोट दिया था। मंत्री ने कहा, ‘मेरे पास पूरा जल संशाधन मंत्रालय है, मैं सरकार में हूं. अगर जरूरत पड़ी तो मैं गांव में पानी की सप्लाई के लिए करोड़ों रुपये मंजूर कर सकता हूं. जब इस बार मैंने चुनाव लड़ा तो मुझे केवल 55 फीसदी वोट मिले. आप सब लोगों ने मुझे वोट क्यों नहीं दिया.’


कमाल की बात तो यह है की भाजपा मंत्री अपने बयान में ये कह रहे है क़ी, उनके पास पूरा जलसंसाधन है। और साथ में वो यह भी मान रह रहे हैं की पानी सप्लाई के लिए वह जरुरी धनराशि की मंजूरी भी दे सकते हैं। परन्तु इतना कुछ होने के बावजूद भी उन्होंने 50 फीसदी गांव के लोगो को पानी से वंचित रखा है। सिर्फ इसलिए की उन लोगो ने बीजेपी को वोट नहीं दिया था।

बाद में जब रिपोर्टेर ने उनसे सवाल किया तो बावलिया ने अपने बयान का बचाव करते हुए कहा कि प्रदर्शन करने वाली महिलाएं अनपढ़ थीं और स्थानीय राजनीति से प्रेरित होकर उन्होंने सवाल पूछे थे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि, यह शिकायत उनके मंत्रालय की नहीं है, बल्कि स्थानीय पंचायत से जुड़ी हुई है। बीजेपी मंत्री ने कहा, ‘मैंने उनसे कहा था कि यह पंचायत का मुद्दा है, इसका मेरे मंत्रालय से कोई लेना देना नहीं.’ हालाँकि उनके इस बयान से लग रहा है की वह मुद्दे को छिपाने की कोशिश कर रहे है।

बीजेपी जल आपूर्ति मंत्री कुंवरजी बावलिया के बयान पर विपक्षी दल कांग्रेस के नेता हार्दिक पटेल ने निशाना साधा है। कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने मंत्री के बयान पर कहा, ‘अगर कोई भाजपा को वोट नहीं देता है और दूसरी पार्टी को वोट डाल देता है, क्या उनकी मूलभूत जरूरतें पूरी नहीं होगी. यह बदले की राजनीति है.’

बता दें की पहले भी कुछ इसी तरह का मामला सामने आया था। जब गुजरात में बीजेपी विधायक ने मतदाताओं को धमकी दी थी। जिसको लेकर चुनाव अधिकारियों ने बीजेपी विधायक को चेतावनी दी थी। दरअसल 3 अप्रैल को वडोदरा से भाजपा मधु श्रीवास्तव पर जिले की एक रैली में मतदाताओं को धमकाकर आचार सहिंता उल्लघन करने का आरोप है। वडोदरा की जिला कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी शालिनी अग्रवाल ने कहा कि उन्होंने जिला पुलिस अधीक्षक को इस मामले की जांच करने के आदेश दिए हैं। मधु वड़ोदरा जिले के वाघोडिया से भाजपा विधायक हैं।

बीजेपी नेताओ द्वारा लोगो के साथ इस प्रकार का व्यवहार करने से पता चलता है की उन्हें किसी का डर नहीं है। बीजेपी नेता द्वारा सरेआम मतदाताओं को धमकाना उनके और पार्टी के चरित्र को दिखाता है। वहीं दूसरी और बीजेपी नेताओ द्वारा आम लोगो को उनको वोट न करने पर लोगो को मूलभूत सेवाओं से वंचित रखना पार्टी के आम लोगो के प्रति बदले की राजनीति को दर्शाता है।

यह अक्सर देखा गया है की मौजूदा सरकार अपने विपक्षी दलों के साथ बदले की राजनीति करती आई है। मौजूदा सरकार अपने सत्ता का गलत इस्तेमाल करके विपक्षी पार्टियों के प्रति बदले की राजनीति को अंजाम देती है। परन्तु जहां पार्टी अपने विपक्षी दलों के साथ तो बदले की राजनीति करती ही है, अब इसके साथ साथ पार्टी देश की जनता के साथ भी इसी प्रकार के कार्य को अंजाम दे रही है। गुजरात में जल आपूर्ति मंत्री कुंवरजी बावलिया द्वारा गांव के लोगो को उनके वोट नहीं देने से गांव की आधी आबादी को पानी से वंचित रखना बदले की राजनीति की तरह ही है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved