fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

हरियाणा: पोलिंग बूथ में बीजेपी मंत्री के साथ देखा गया कुख्यात गैंगस्टर

haryana;-Notorious-gangster-seen-with-BJP-minister-in-polling-booth
(Image Credits: Punjab Kesari)

लोकसभा चुनाव के दौरान जहाँ सभी पार्टियों के नेता अपनी अंतिम तैयारी जुटे हुए हैं। वहीँ कुछ पार्टियों के नेता किसी और कारणों से सुर्खियों में दिखाई दे रही है। दरअसल एक दिन पहले 12 मई को हरियाणा में मतदान के दौरान, पोलिंग बूथ पर बीजेपी नेता मनीष ग्रोवर व सहकारिता मंत्री एक गैंग्स्टर रमेश लोहार के साथ दिखाई दिए। इस दौरान दौरान पुलिस ने लोहार को पोलिंग बूथ के पास से गिरफ्तार कर लिया।

Advertisement

लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी नेता का एक गैंगस्टर के साथ दिखाई देना बेहद चौंकाने वाला लगता है। गैंग्स्टर रमेश लोहार किन कारणों से बीजेपी मंत्री के साथ दिखाई दिए यह तो बीजेपी नेता और रमेश लोहार के सिवाए कोई और नहीं बता पाएगा।

पुलिस ने ट्वीट करके बताया कि बोहर निवासी और हिस्ट्रीशीटर बदमाश लोहार के साथ मकडोली निवासी सुनील को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों के पास से पुलिस ने लाठी, डंडा, दो फर्जी नंबर, .32 बोर की 15 गोलियां बरामद किए हैं।

ऐसी घटना पहली बार हुई है ,जब पोलिंग बूथ के पास से किसी हिस्ट्रीशीटर बदमाश की गिरफ्तारी हुई है। चुनाव आयोग ने इस पर ध्यान देते हुए गैंस्टर रमेश लोहार के साथ साथ बीजेपी मंत्री मनीष ग्रोवर पर भी चुनाव समाप्त होने तक सभी प्रकार की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया।

पुलिस ने बताया कि बदमाशों को रोहतक के विश्वकर्मा स्कूल के पास से गिरफ्तार किया गया। दरअसल, स्कूल के पास पोलिंग बूथ के अंदर लोहार सहकारिता मंत्री के साथ आया था। इस दौरान दीपेंद्र हुड्डा के समर्थकों ने उसे चिन्हित किया और उस पर सवाल खड़े किए। विश्वक्रमा स्कूल के सामने पुलिस ने अस्थायी नंबर की तीन गाड़ियां भी पकड़ीं। दरअसल इससे पूर्व कांग्रेस नेता ने बीजेपी मंत्री और गैंस्टर पर बूथ कैप्चरिंग का आरोप लगाया था।


बता दें की चुनाव के छठे चरण के लिए रविवार को सात राज्यों की 59 सीटों पर मतदान हुए। बिहार, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश की 8-8 सीटों पर मतदान हुए। जबकि, उत्तर प्रदेश की 14, हरियाणा की 10, झांरखंड की चार और दिल्ली की 7 सीटों पर वोटिंग हुई।

बीजेपी मंत्री के साथ कुख्यात गैंगस्टर का नजर आना, थोड़ा संदिग्ध सा लगता है। वो भी खासतौर पर ऐसे समय में, जब विपक्षी पार्टी कांग्रेस के नेता उन दोनों पर बूथ कैप्चरिंग का आरोप लगा चुके है।

देखा जाए तो इस लोकसभा चुनाव के दौरान देश भर में कुछ जगह चुनाव को प्रभावित करने वाली घटनाये सामने आई है। और इसके साथ ही देश में कई जगह वोटिंग मशीन के खराब होने की भी शिकायत देखी जा चुकी है। कुछ मामलो में तो ईवीएम में इस स्तर पर ख़राबी देखी गई, जिसमे बटन किसी पार्टी का का दबाओ और वोट किसी अन्य पार्टी को जाने की बात कही गई।

अभी हाल ही में एनसीपी नेता शरद पवार ने ईवीएम में एनसीपी का बटन दबाने पर भाजपा को वोट जाने की बात भी कही। और इसके साथ ही एक दिन पहले की बात है जब छठे चरण के चुनाव के दौरान दिल्ली में कई जगह ईवीएम ख़राब होने की बाटे भी सामने आई। ईवीएम में बार बार खराबी आना चुनाव आयोग की लापरवाही को दिखाता है। निर्वाचन आयोग की इस लापरवाही के पीछे क्या कारण हो सकते हैं यह तो चुनाव आयोग ही बता सकता है।

रमेश लोहार का बीजेपी नेता मनीष ग्रोवर के साथ पोलिंग बूथ पर अचनाक दिखना फिर उसके बाद पुलिस द्वारा उसे गिरफ्तार कर लेना कुछ अटपटा सा लगता है। इस घटना से यह लगता है की जैसे हरियाणा पुलिस कुख्यात गैंगस्टर का सामने आने का सिर्फ इतंजार कर रही थी। इसके साथ ही इस घटना में प्रशासन की लापरवाही भी देखी जा सकती है।

देश में चल रहे इतने महत्वपूर्ण चुनाव में हरियाणा प्रशासन द्वारा बरती गई लापरवाही उचित नहीं है। पोलिंग बूथ पर इस तरह के लोगो का पकड़ा जाना कही न कहीं राज्य के प्रशासन के साथ साथ निर्वाचन आयोग की असहजता को भी दिखाता है। क्यूँकि चुनाव सुरक्षित माहौल में हो इसकी जिम्मदारी सबसे पहले चुनाव आयोग की ही बनती है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved