fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

कर्नाटक: बागी कांग्रेसी विधायक रोशन बेग लिए गए हिरासत में, हिरासत के दौरान बीजेपी विधायक भी देखे गए साथ

Karnataka:-rebel-Congress-MLA-Roshan-Beg-arrested,-BJPMLAs -were-seen-together-during-the-detention
(image credits: the news minute)

कर्नाटक में विधायकों को लेकर चल रहे बवाल में एक तरफ जहां कांग्रेस पार्टी सकंट में दिखाई पड़ रही है, वहीं दसूरी और कर्नाटक कांग्रेस के बागी विधायक आर रोशन बेग घोटाले के आरोप में फरार चल रहे थे, जिन्हे अब हिरासत में ले लिया गया हुई। कर्नाटक कांग्रेस के बागी विधायक को सोमवार (15 जुलाई, 2019) को बेंगलुरु एयरपोर्ट से स्पेशल टास्क फोर्स (SIT) की टीम ने हिरासत में ले लिया है। उनपर आईएमए में करोडो रुपए के घोटाले का आरोप है।

Advertisement

राज्य के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने खुद इसकी जानकारी अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर की। ट्वीट में उन्होंने लिखा कि जिस समय बेग को हिरासत में लिया गया उस समय वह भाजपा के एक विधायक के साथ थे। कुमारस्वामी ने ट्वीट में लिखा, ‘एसआईटी ने आईएमए घोटाले मामले को लेकर रोशन बेग को हिरासत में लिया है। जिसमें समय उन्हें हिरासत में लिया गया तब वह येदियुरप्पा के पीए संतोष के साथ एक चार्टर्ड प्लेन से मुंबई के लिए रवाना होने वाले थे। मुझे बताया गया है कि संतोष एसआईटी को देखकर मौके से भाग गया है, जबकि टीम ने बेग को हिरासत में ले लिया। जिस समय बेग को हिरासत में लिया गया तब भाजपा विधायक योगेश्वर भी वहां मौजूद थे।’

हिरासत में लेने के दौरान रोशन बेग के साथ बीजेपी विधायक का होना हैरान करने वाला लगता है। वो भी तब जब विपक्षी पार्टी कांग्रेस लगातार कर्नाटक में उनकी पार्टी पर आये सकंट के पीछे बीजेपी को जिम्मेदार ठहरा रही है।

मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने आगे कहा, यह बहुत शर्मनाक है कि भाजपा बेग को बेंगलुरु से भगाने में मदद कर रही थी। इससे यह साफ है कि आखिर किस तरह से भाजपा कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को तोड़ने की कोशिशें कर रही है।

बता दें की पूर्व मंत्री आर रोशन बेग कुछ जरूरी काम का हवाला देते हुए आईएमए ज्वेल्स पोंजी स्कीम की छानबीन कर रही विशेष जांच टीम (एसआईटी) के सामने तय वक्त के भीतर पेश नहीं हुए।


अब हम बेग के ऊपर लगे आरोपों के बारे में बताते है, दरअसल पूर्व कांग्रेस विधायक व सिद्धरमैया सरकार में मंत्री रह चुके बेग तब विवादों में आ गए, जब कंपनी के मालिक मोहम्मद मंसूर खान ने उनपर आरोप लगाया कि बेग ने उनसे 400 करोड़ रुपये लिए थे परन्तु वापस नहीं लौटाए। वहीं विधायक ने आरोपों को बेबुनियाद और मनगढंत बता दिया था। मालूम हो की रोशन बेग ने कर्नाटक में इस्तीफा देने वाले 16 विधायकों में से एक हैं।

आपको बता दें की नौ जुलाई को कांग्रेस विधायक बेग द्वारा त्यागपत्र देने के कुछ ही घंटे बाद एसआईटी ने उन्हें एक नोटिस देकर 11 जुलाई को पेश होने के लिए कहा लेकिन विधायक ने समय मांगा और कहा कि वह सोमवार को पेश होंगे, परन्तु वह नहीं आए। दूसरी और मसूर खान ने यूट्यूब पर वीडियो मैसेज में कहा कि वह निवेशकों का पैसा लौटाने के लिए ‘24 घंटे के भीतर’ देश लौटेंगे।

राज्य के मुख्यमंत्री का बीजेपी पर उनकी पार्टी को तोड़ने का आरोप लगाना कहीं न कहीं सही लगता है। क्यूंकि मौजूदा सरकार के लिए ऐसा करना कोई नई बात नहीं है। पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को अपनी पार्टी में शामिल होने के लिए प्रभावित किया था, और इतना ही नहीं अभी हाल ही में पूर्व बीजेपी मंत्री ने कर्नाटक और गोवा जैसे हालातों की शुरुआत मध्य प्रदेश में भी होने की बात कही थी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved