fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोरात ने बीजेपी की तुलना राक्षस ‘बकासुर’ से की

Maharashtra-Congress-President-Balasaheb-Thorat-compared-BJP-to-Bakasur',-said, "I-am-not-able-to-understand-that-this-is-a-political-party-or-a-bakasur
(image credits: zee news)

यूं तो बीजेपी और कांग्रेस के बिच कई तरह से बहस बाजी होती रहती है बार बार दोनों ही पार्टियां कुछ ऐसा कह देती है जिसकी वहज से सियासी गलियारा काफी गरमा जाता है। बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही एक दूसरे पर तंज कसने से बाज नहीं आते। इस बार भी कांग्रेस ने बीजेपी के कामो और सत्ता हड़पने को लेकर तंज कसा है। महाराष्ट कांग्रेस के अध्यक्ष ने बीजेपी पर हमला करते हुए बीजेपी सरकार को बकासुर बताया है।

Advertisement

महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोरात ने बीजेपी की तुलना राक्षस ‘बकासुर’ से की है। बकासुर एक पौराणिक राक्षस था, जिसका जिक्र महाभारत में मिलता है। बताया जाता है कि उसे हर वक्त भूख लगती रहती थी। बालासाहेब ने आरोप लगाया कि बीजेपी दूसरे राज्यों में मौजूद कांग्रेस सरकारों को गिराने की कोशिश कर रही है। बुधवार को न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत काने के दौरान बालासाहेब ने बीजेपी को सत्ता की भूखी पार्टी बताया। उन्होंने कहा, ‘‘मैं यह नहीं समझ पा रहा हूं कि यह कोई राजनीतिक पार्टी है या बकासुर।’’

बालासाहेब का यह बयान उस वक्त सामने आया, जब कर्नाटक में करीब एक साल पहले बनी कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार विश्वास प्रस्ताव हारने के बाद गिर गई। गठबंधन को विश्वास प्रस्ताव के दौरान 99 वोट मिले, जबकि बीजेपी के पक्ष में 105 वोट पड़े थे। इससे पहले मध्य प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष व बीजेपी नेता गोपाल भार्गव ने यह दावा किया था कि अगर भगवा पार्टी के नंबर-1 और नंबर-2 से सिग्नल मिल गया तो कमलनाथ सरकार 24 घंटे में गिरा देंगे।

भार्गव के बयान पर सीएम कमलनाथ ने पलटवार करते हुए कहा, ‘‘मध्य प्रदेश में कांग्रेस के विधायक बिकाऊ नहीं हैं। बीजेपी जब भी चाहे, विश्वास प्रस्ताव परीक्षण करा सकती है। हम हर समय इसके लिए तैयार हैं।’’ दूसरी और, कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर विधायकों की खरीद-फरोख्त करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के दौरान भगवा पार्टी ने काफी पैसा बनाया था।

मध्य प्रदेश में 230 सीटों वाली विधानसभा में कांग्रेस ने 121 विधायकों के साथ सरकार बनाई है। इसमें बीएसपी व 4 निर्दलीय विधायकों के साथ गठबंधन किया गया था। मध्य प्रदेश में बहुमत साबित करने के लिए 115 सीटें जीतना जरूरी है। फिलहाल, राज्य में बीजेपी के 2 विधायकों नारायण त्रिपाठी व शरद कौल ने कांग्रेस में शामिल होने का फैसला किया है। उन्होंने क्रिमिनल लॉ एमेडमेंट बिल के समर्थन कांग्रेस सरकार के लिए वोट डाला था। हालांकि, दोनों विधायकों ने भगवा पार्टी से अभी तक इस्तीफा नहीं दिया है।


ऐसे में बीजेपी हर हाल में मजबूत पार्टी नजर आ रही है। बीजेपी और कांग्रेस के इस नोकझोक से सिआसत गरमा जाती है और एक बार फिर कांग्रेस ने बीजेपी पर हमला बोल यह साबित कर दिया की वह उनसे पीछे नहीं है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved