fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

MP-राजस्‍थान में खींचतान शुरूः मायावती बोली- भारत बंद के दौरान दर्ज मामले को वापस लिया जाये, नहीं तो समर्थन करने पर पुनर्विचार होगा

Mayawati-told-to-reconsider-supporting-Congress-to-form-govt-in-mp-and-Rajasthan-if-cases-lodged-while-Bharat-bandh-not-taken-back-soon
(Image Credits: News18.com)

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की नई सरकार को उनकी सहयोगी बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने समर्थन पर पुनर्विचार करने की बात कही है। बसपा प्रमुख मायावती ने अनुसूचित जाति जनजाति अधिनियम में संशोधन के खिलाफ 2 अप्रैल 2018 को भारत बंद के दौरान दर्ज किए गए मुकदमे ख़ारिज करने मांग करी है। इसके साथ मायावती ने ऐसा न करने पर कांग्रेस को राजस्थान में समर्थन देने पर पुनर्विचार करने की बात करी है।

Advertisement

किसानो और बेरोजगारों के लिए कांग्रेस को नसीहत:

बसपा ने आरोप लगाया है कि बीजेपी में राजनीतिक और जातिगत बदले की भावना से निर्दोष लोगों पर मुकदमे दर्ज किए गए थे। इसके साथ ही बसपा ने कांग्रेस को नसीहत देते हुए कहा कि मध्य प्रदेश राजस्थान और छत्तीसगढ़ में सरकारों को किसानो और बेरोजगारों के लिए तत्काल कदम उठाने चाहिए।

बता दें की मध्य प्रदेश के बदले हुए समीकरणों के बीच समाजवाद पार्टी और बसपा की स्थिति बेहद महत्पूर्ण हो गई है। सीट शेयरिंग पर सहमति न बनने पर चुनाव से पहले कांग्रेस ने बसपा के साथ गठबंधन करने से इनकार कर दिया था।

2019 में पड़ सकता है असर


बहुजन समाज पार्टी ने विधानसभा चुनावों में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान तीनों राज्यों में चुनाव लड़ा था। तीनो राज्यों में पार्टी को हार मिली थी उसे सिर्फ दो, दो और छह सीटों पर जीत मिली थी।

मध्य प्रदेश में कांग्रेस सीर्फ बहुमत से दो कदम दूर रह गई थी इस हालात में सहयोगियों पार्टी द्वारा समर्थन देना कांग्रेस के लिए संजीवनी बनकर सामने आया था। जिसके कारण 15 साल बाद कांग्रेस ने फिर से सत्ता में अपनी वापसी की थी। ऐसे में बसपा के तेवरों से लोकसभा चुनाव 2019 में गठबंधन के नाम पर होने वाली खींचतान का असर भी दिखाई दे सकता है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved