fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

मोदी भक्त की सरेआम गुंडागर्दी, इस नेता को सभा से भागने पर किया मजबूर

Modi's-devotee's-felony,-forced-this-leader-to-escape-from-the-gathering
(Image Credits: Hindustan Times)

चुनावी भाषणों में लोगो के अक्सर पार्टियां विकास और जरूरी मुद्दों को छोड़ कर विपक्षी पार्टियों पर जम कर हमला बोलती है। अपने उन कामो को गिनाने की कोशिश करती है जो उसने किया ही नहीं। ऐसी सूचि में मोदी सरकार भी शामिल है जो हर काम का श्रेय लेने में आगे है चाहे उसने वह काम किया हो या ना किया हो। यहाँ तक की पार्टियों के समर्थक और भक्त कहे जाने वाले लोग भी खुश होते है।

Advertisement

कुछ इसी प्रकार देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कई ऐसे भक्त बनाये है जो उनके बारे में सुन भी नहीं सकते। कई ऐसे मामले सामने आये है जिनमे खुलेआम भक्तो की गुंडागर्दी नजर आयी है। मोदी ने इस प्रकार से देश की जनता को बहलाया फुसलाया है की वह उनकी बुराई तक नहीं सुन सकते। आखिर लोगो के दिमाग और उनके जज्बातो से खलने वाले मोदी ने उनको अपना बना लिया है।

अक्सर देखा जाता है की भक्ति में किसी की बुराई नजर नहीं आती। यही बात मोदी के समर्थको और भक्तो पर भी लागू होती है जो उनकी बुराई ना तो सुनना चाहते हो ना ही देखना चाहते है। कुछ इसी प्रकार की घटना कांग्रेस के सभा में नजर आयी जहाँ एक मोदी भक्त ने उनकी बुराई सुनने पर नेता को ही डांट दिया।

कांग्रेस प्रत्याशी कीर्ति आजाद चिलचिलाती गर्मी में चुनाव प्रचार में जुटे हुए हैं। वह झारखंड की धनबाद सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। क्रिकेटर से राजनेता बने कीर्ति अपने प्रचार के दौरान इस बात का जिक्र हमेशा करते है की वह ‘1983 की विश्व विजेता टीम के हिस्सा’ और ‘वर्ल्ड कप भारत लाने वाले पहले झारखंडी’ थे। हालांकि यह बात वह लोगो के बीच सिर्फ वोट के लिए करते है।

वह यह भी कहते हैं कि लोगों को न्यूनतम आय सुनिश्चित कराने वाली कांग्रेस की न्याय योजना का लाभ उठाकर उनके क्षेत्रवासी ‘माछ-भात’ का आनंद उठा सकेंगे। हालांकि, प्रचार के दौरान कीर्ति आजाद को एक अजीबोगरीब स्थिति का सामना करना पड़ा। यहां एक स्थानीय निवासी ने कीर्ति के पीएम नरेंद्र मोदी और स्थानीय सांसद की आलोचना करने का विरोध किया।


प्रचार करते हुए कीर्ति क्षेत्र के सब्रा मार्केट इलाके में पहुंचे। यहां संबोधित करते हुए कीर्ति ने कहा, ‘आपका आशीर्वाद मिलेगा न? हमारा नंबर 1 है और उस पर वोट दीजिए, दो नंबर आदमी को मत दीजिए।’ इसके बाद वह चास ब्लॉक के पोंड्रू गांव में शाम साढ़े पांच बजे पहुंचे।

यहां भी कीर्ति ने 1983 वर्ल्ड कप, माछ-भात, मोदी के 15 लाख के वादे का जिक्र किया अपने खिलाफ उतरे बीजेपी के पशुपति नाथ सिंह पर हमले जारी रखे। हालांकि, एक स्थानीय शख्स ने कीर्ति की बात को नकारते हुए कहा, ‘मोदी जी किए हैं हम लोगों के लिए, बहुत कुछ किए हैं, और हमारे लोकल एमपी आते हैं यहां पर। आप कैसे बोल रहे हैं?’ इस पर आजाद ने कहा कि उन्होंने गांव में कोई विकास नहीं देखा और वो शख्स बिना तर्क के बहस कर रहा है। हालांकि, इस हो-हल्ले के बीच आजाद ने अपना भाषण जल्दी निपटाया और दूसरी जगह प्रचार करने के लिए रवाना हो गए।

इससे पहले, क्षेत्रवासियों को माछ-भात के लुभावने सपने दिखाते हुए कीर्ति ने यह कहा की, ‘कांग्रेस की सरकार आपको न्यूनतम आय योजना में आपको 72000 सालाना देगी। आप दाल, भात, तरकारी खा सकेंगे और थोड़ा सा माछ भात भी। हमको खिलाएंगे न। हम रोहू, कातला, पोटिया और जंगली मछली भी खाते हैं। और हमको झाल खाना पसंद है, खिलाएंगे न?’

यहाँ मोदी सरकार के भक्त ना तो मोदी सरकार के बारे में सुनाना पसंद करते है ना ही उनकी बुराई देखना पसंद करते है। लोगो के आँखों पर बेईमानी की पट्टी इस प्रकार बाँधी गयी है जिससे वह सही और गलत को नहीं देख सकते। चाहे कोई भी पार्टी उनकी गलतियों को क्यों न उजागर करे परन्तु मोदी भक्तो को उन बातो से कोई फर्क नहीं पड़ता। देखा जाए तो इस प्रकार से जनता अपना ही नुकसान करने में लगी है जो बीजेपी जैसे पार्टी का समर्थन करने में लगी है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved