fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

प्रधानमंत्री मोदी ने पुलवामा के शहीदो के नाम पर माँगा वोट, किया आचार सहिंता का उल्लघंन

Prime-Minister-Modi-demands-vote-in-the-name-of-of-Pulwama,-violated-the-code-of-conduct
(Image Credits: Hindustan Times)

चुनाव का पहला चरण शुरू हो चूका है इसी के साथ अब सभी लोग वोट देने के लिए अपने घर
से निकल चुके है। चुनाव से पहले सभी पार्टियों ने प्रचार के लिए अपनी पूरी जान लगा दी। वही भाजपा सरकार ने भी पूरा प्रचार किया और साथ ही साथ आचार सहिंता का उलंघन भी किया। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने वोट के लिए काफी ज्यादा प्रचार किया साथ ही लोगो में झूठ भी फैलाया। अपने झूठे वादों के चलते वोट हासिल करने की कोशिश भी की है।

Advertisement

हालांकि मोदी ने बिच बिच में ऐसे काम किये जो नियमो का उलंघन था परन्तु उन पर कोई भी केस या सुनवाई नहीं हुई। चुनाव की तारीख तय होने के बाद भी मोदी सरकार प्रचार करने में लगी थी। मोदी ने तातुर में लोगो से एक शर्मनाक अपील की जो सीधा सीधा आचार सहिंता का उलंघन था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस सप्ताह लातूर में पहली बार वोट डालने वाले मतदाताओं से उन “बहादुर सैनिकों” को अपना वोट “समर्पित” करने की अपील की, जो पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए और जिन्होंने बालाकोट हवाई हमले को अंजाम दिया। लेकिन, उनकी यह अपील चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में आ गई है। उस्मानाबाद जिला चुनाव अधिकारी यानी CEO ने महाराष्ट्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को सौंपी गई अपनी रिपोर्ट में प्रधानमंत्री के भाषण को सशस्त्र बलों का चुनाव लाभ लेने वाला बताया है।

सूत्रों के अनुसार राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी कार्यालय ने डीईओ की रिपोर्ट चुनाव आयोग को भेज दी है। यदि चुनाव आयोग उस्मानाबाद डीईओ की राय से सहमत होता है, तो मोदी प्रधानमंत्री रहते हुए पहली बार आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के लिए अपनी टिप्पणी के बारे में मोदी को सफाई देनी होगी। चुनाव आयोग के अधिकारियों की ओर से संकेत आये है कि मामले में इस हफ्ते निर्णय आने की संभावना है।

19 मार्च को चुनाव आयोग ने सभी राजनीतिक दलों को पत्र लिखकर यह आदेश दिया था कि वे अपने नेताओं और उम्मीदवारों को सलाह दें कि अपने चुनाव अभियान के दौरान वे ‘सुरक्षा बलों’ और उनकी गतिविधियों का राजनीतिक प्रोपगैंडा में इस्तेमाल न करें। इससे पहले भी 9 मार्च को आयोग ने राजनीतिक दलों को एक एडवाइजरी जारी की थी, जिसमें कहा गया था कि वे प्रचार में सेना के जवानों और उनसे जुड़े फोटोग्राफ का इस्तेमाल बिल्कुल न करें। ऐसे में डीईओ का कहना है कि प्रथम दृष्टया पीएम मोदी का भाषण इस एडवाइजरी का सरासर उल्लंघन है।


सैनिको के नाम पर वोट मांगते हुए मंगलवार को लातूर में पीएम मोदी ने कहा था, “मैं जरा कहना चाहता हूं मेरे फर्स्ट टाइम वोटरों को। आपका पहला वोट पाकिस्तान के बालाकोट में एयर-स्ट्राइक करने वाले वीर जवानों के नाम समर्पित हो सकता है क्या? मैं मेरे फर्स्ट-टाइम वोटर से कहना चाहता हूं कि आपका पहला वोट पुलवामा में जो वीर शहीद हुए हैं उन वीर शहीदों के नाम आपका वोट समर्पित हो सकता है क्या?” बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने चुनाव आयोग से इसकी शिकायत की और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बालाकोट एयर स्ट्राइक और पुलवामा आतंकी हमले का जिक्र अपने भाषण में करके आचार संहिता का उल्लंघन किया है।

यहाँ अपने भाषण में साफ़ साफ़ मोदी देश के वोटरों को देश के जवानो और शहीदों के नाम पर वोट मांगने की कोशिश कर रहे है। मोदी ने देश के जवानो और जनता को लेकर एक शर्मनाक बयान दिया है इससे साफ़ पता चलता है की वह जितने के लिए कितना निचे गिर सकते है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved