fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

शरद पवार: बीजेपी इस बार नहीं ला पाएगी जरुरत के मुताबिक सीट

NCP-president-Sharad-Pawar-spoke-on-Modi's-government
(Image Credits: The Indian Express)

लोकसभा चुनाव को लेकर अब गिनती के कुछ ही दिन बाकी रह गए है। पार्टियां द्वारा एक दूसरे पर बयानबाजी करके एक दूसरे आरोप प्रत्यारोप लगाने का सिलसिला भी बढ़ गया है। कभी कांग्रेस पार्टी द्वारा बीजेपी पर एयर स्ट्राइक को लेकर सवाल उठाये जाते है। तो कभी बीजेपी, कांग्रेस और अन्य विपक्षी पार्टियों पर उनके गठबंधन को लेकर सवाल उठाती है। लोकतंत्र में सत्ता और विपक्षी पार्टियों के बीच एक दूसरे पर सवाल जवाब करना तो स्वभाविक है। लेकिन कभी कभी विपक्षी पार्टियों के नेता सरकार के बारे में कुछ बड़ा बयान भी देते है।

Advertisement

इसी प्रकार विपक्षी पार्टी (नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी) NCP के नेता शरद पवार ने आने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। दरअसल मंगलवार को NCP नेता शरद पवार ने कहा भले ही चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ा दल बनकर सामने आए, परन्तु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दूसरा कार्यकाल मिलने की संभावना नहीं है। पवार ने यह बात मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान संवाददाताओं से बातचीत में कही। साथ पवार ने यह भी कहा कि वे 14 और 15 मार्च को दिल्ली में देश भर के कुछ क्षेत्रीय दलों से मिलेंगे, जहां महागठबंधन की आगे की रणनीति पर चर्चा की जाएगी।

उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी को दूसरों दलों से सहयोग लेकर सरकार बनाने की जरुरत पड़ती है तो दूसरे दल किसी और को पीएम बनाना चाहेंगे। बता दें कि हाल ही में शरद पवार ने आगामी लोकसभा चुनाव न लड़ने की बात कही थी। शरद पवार ने कहा, “जहां तक मेरी राजनीतिक समझ कहती है, मोदी जी इस बार के चुनाव के बाद पीएम नहीं होंगे। हालांकि मैं कोई ज्योतिषी नहीं हूं लेकिन मुझे लगता है कि बीजेपी को इस बार जरुरत के मुताबिक सीट नहीं मिलेंगी।”

एनसीपी मुखिया शरद पवार ने कहा कि इस बार बीजेपी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिल पाएगा, उन्हें संख्या से कम सीटें मिलेंगी। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी, परन्तु उन्हें सरकार बनाने के लिए अन्य दलों की मदद लेनी होगी। और अगर ऐसा होता है तो बीजेपी को दूसरे पीएम की तलाश करनी होगी।

एनसीपी नेता ने कहा कि एनसीपी और कांग्रेस के बीच सीट बंटवारे का फार्मूला लगभग अंतिम पड़ाव में ही है। और जल्द ही इसके बारे एक आधिकारिक घोषणा की जाएगी। पवार ने दोहराया कि उन्होंने लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है क्योंकि वह अपने परिवार के अन्य सदस्यों के लिए रास्ता बनाना चाहते हैं और उन्हें लगता है कि अब रुकने का वक्त आ गया है।


शरद पवार के चुनाव न लड़ने पर बीजेपी से महराष्ट्रा के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने चुटकी लेते हुए कहा, पवार ने बदलते मौसम को महसूस कर लिया है। जिस पर पवार ने पलटवार करते हुए कहा था कि फडणवीस का बयान बचकाना है। मैंने 14 बार चुनाव में जीत दर्ज की है।

अब देखना यह होगा की अगर बीजेपी गठबंधन करती है तो वो कौन सी पार्टी होगी जिससे पार्टी गठबंधन करेगी। लेकिन यह सारी बाते तब होगी जब बीजेपी चुनाव जीतेगी। पांच सालो में सरकार अपने किये गए वादे के अनुसार एक भी वादों को पूरा करने में असमर्थ रही है। साथ जनता भी सरकार के जुमलों को धीरे धीरे समझने लगी है।

आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए मौजूदा सरकार के पास कोई मुद्दा ही नहीं बचा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सिर्फ विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधकर ही चुनाव जीतना चाहते हैं। इसके साथ साथ सरकार ने देश की जनता का ध्यान भटकाना भी शुरू कर दिया है। सरकार लोगो का ध्यान रोजगार, शिक्षा और किसान आदि जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों से हटाकर मंदिर और सर्जिकल स्ट्राइक जैसे मुद्दों की तरफ करना चाहती है।

दरअसल मौजूदा सरकार चुनाव से पहले वो सब कुछ करेगी जिसके सहारे लोगो को ध्यान भटकाया जा सके। क्योकि उन्हें भी पता चल गया है की, लोग उनको धीरे धीरे समझने लग गए हैं। अब आखिर में यह लोगो पर ही निर्भर करता है, की वो किसके साथ जायेंगे एक तरफ एक पार्टी है जो वर्षो से राज करके भी देश के लिए कुछ खास नहीं किया। दूसरी और वह पार्टी है जो सिर्फ एक ही धर्म के विचारधारा को तवज्जों देती है। देखा जाये तो ये दोनों राजनीतिक पार्टिया ही समाज में हर तबके के लोगो का विकास करने में असफल रही है। इसके कारण आनेवाले चुनाव में लोगो को कोई अन्य विक्लप तलाशना पड़ेगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved