fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा जो सांसद राम मंदिर के साथ नहीं होगा, उसका देश में घूमना होगा मुश्किल

Sanjay-raut

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने एक विवादित बयान दिया है जिसके चलते वह बड़ी मुसीबत में फसते नजर आ रहे है। बयान के ट्विटर पर आते ही आरोप प्रत्यारोप लगने शुरू हो गए ।  संजय राउत का कहना था की हमने 17 मिनट में बाबरी तोड़ दी, तो कानून बनाने में कितना समय लगेगा ? राष्ट्रपति राजभवन से लेकर यूपी तक बीजेपी की सरकार है। बहुत से ऐसे सांसद है राज्यसभा में जो राम मंदिर के साथ खड़े रहेंगे। जो विरोध करेगा उसका देश में घूमना मुश्किल होगा। संजय राउत के इस बयान के सोशल मिडिया पर आते ही ट्विटर पर @singhjitesh11 ने लिखा की मोदी सरकार को अब राम मंदिर निर्माण के लिए जल्द से जल्द कानून बनाना चाहिए। अगर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से तय होगा तो फिर SC/ST  पर भी मानना चाहिए था। रामलाल टाट में और मोदी सरकार ठाठ में। मंदिर निर्माण जल्द करे।

Advertisement

 

@Pakodamaker ने कयाद मेंट किया है की बीजेपी वाले फर्जी हिन्दू है, काम कोई ओर करे और नोट ये खाएंगे। @nitbhu10 ने लिखा है की एकदम सही संजय जी जो विरोध करेंगे  उनको बाहरी समझ कर कूट दिया जायेगा । @calmoceanspirit ने कमेंट किया है की इन लोगो को केवल चुनाव के समय ही श्री राम याद आते है बाकी समय पता नहीं कहा रहते है। @musab_s1 ने लिखा है की शिवसेना को इतने साल बाद भगवान् श्री राम मंदिर की याद क्यूं आयी, सब पता है। तुम्हारी नैया डूब रही है थूक के चाटना किसे कहते है वो शिवसेना से सीखना चाहिए। एक भाजपा से तो लड़ नहीं पाते ठीक से, बार बार थूक के चाटते हो बात करते है राम मंदिर की।

 

@AnnaramD ने कमेंट कर यह बोलै की ये बाला साहब की शिवसेना नहीं है जनता सब जानती है की सबसे पहले तुम लोग ही भागोगे। जब अपना अस्तित्व खतरे में दिख रहा है तो राम मंदिर याद आ रहा है, इतने सालो से कहाँ थे। @kamaranSmk का कहना है की 1992 में जो गलती इन लोगो ने की थी उसका नुकसान आम लोगो को भुगतना पड़ा था एक बार दंगे की शक्ल में एक बार बम ब्लास्ट की शक्ल में। परन्तु अफसोस इस बात है की जिनकी वजह से यह साब घटना हुई उन्हें कोई सजा नहीं मिली बल्कि वो तो आज सत्ता में है और आज फिर उसी कांड को दोहराने की बात कर रहे है।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved