fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

EVM की सुरक्षा के विषय में कुछ विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने दिया धरना

Some-opposition-parties-performed-strike-to-protect-EVM
(Image Credits: India Tv)

चुनाव ख़त्म हो चुके है और अभी भी EVM को लेकर सवाल उठाये जा रहे है। कई शिकायतों में सामने आया की EVM में गड़बड़ी है जिससे मतदाताओं के वोट दूसरी पार्टियों को जा रहे है। परन्तु इस पर कोई भी एक्शन नहीं लिया गया। हालांकि खराब EVM को बदल दिया जाता था। अभी भी EVM को लेकर मुसीबते कम नहीं हुई है, EVM विपक्षी पार्टियों का सरदर्द बनी हुई है। EVM घोटाले को लेकर विपक्षी पार्टिया धरने पर बैठने की तैयारी में है।

Advertisement

वहीँ चुनाव ख़त्म होने के बाद अब एग्जिट पोल और सभी सर्वे फिर से एक बार मोदी सरकार बनाने के पक्ष में है। इसकी वजह साफ़ नजर आती है की मिडिया मोदी सरकार को सबसे आगे दिखा रहा है। अगर सभी एग्जिट पोल को देखा जाए तो सबके नतीजे अलग अलग है। कई जगहों पर बीजेपी सरकार को मात खानी पड़ रही है।

परन्तु सभी पार्टियों का मानना है की EVM गड़बड़ी के चलते नतीजे बीजेपी के पक्ष में आ सकते है। वही वोटो की गिनती में हेराफेरी न हो उसके लिए भी कड़े इंतजाम किये जा रहे है तो वही विपक्षी पार्टी के नेता धरने पर बैठ रहे है।

उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ीपुर में प्रशासन ने स्ट्रॉंग रूम की निगरानी में 5 लोगों को रहने की इजाज़त दे दी है। सोमवार को यहां से गठबंधन के उम्मीदवार अफ़ज़ाल अंसारी अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गए थे। उनका आरोप था कि ग़ाज़ीपुर लोकसभा के अंतर्गत 5 विधानसभाएं आती हैं और हर विधानसभा की ईवीएम 5 अलग-अलग जगहों पर है। अफ़ज़ाल की मांग थी कि हर स्ट्रॉंग रूम के पास दो बसपा कार्यकर्ताओं के पास जारी किए जाएं। अंसारी ने शक जाहिर किया है कि ज़िला प्रशासन सत्ताधारी पार्टी के इशारे पर कुछ गड़बड़ कर सकता है।

ग़ाज़ीपुर से केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा के ख़िलाफ़ अफ़ज़ाल अंसारी मैदान में हैं। वहीं उत्तर प्रदेश के चंदौली में भी ईवीएम को लेकर गठबंधन समर्थक धरने पर बैठ गए। आरोप है कि गाड़ी से लाई गई कुछ ईवीएम को काउंटिंग स्थल के एक अलग कमरे में रखा गया है। हालांकि प्रशासन का कहना है कि ये ईवीएम ख़राब हैं और जिन ईवीएम के वोटों की काउंटिंग होनी है वो अलग कमरे में सील हैं और उसकी वीडियोग्राफ़ी हो रही है, जिसमें हेराफेरी नहीं की जा सकती, लेकिन लोगों के मन में शक है इसलिए इस तरीके का धरना भी हो रहा है।


वहीँ दूसरी ओर एग्जिट पोल के बाद से कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में निराशा छा गयी है, जिसको देखते हुए पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने ऑडियो जारी किया है। प्रियंका गांधी ने कहा, ‘प्यारे कार्यकर्ता, बहनों और भाइयों, अफ़वाहों और एग्ज़िट पोल से हिम्मत मत हारिए. ये आपका हौसला तोड़ने के लिए फैलाया जा रहा है। इस बीच आपकी सावधानी और भी महत्वपूर्ण बनती है। स्ट्रॉंग रूम और काउंटिंग सेंटर में डटे रहिए और चौकन्ने रहिए. हमें पूरी उम्मीद है कि हमारी मेहनत और आपकी मेहनत फल लाएगी।

दूसरी तरफ 19 मई को अंतिम चरण के मतदान के बाद आए एग्जिट पोल में ज्यादातर केंद्र में एक बार फिर मोदी सरकार बनने की भविष्यवाणी कर रहे हैं। वहीं एनडीटीवी पोल ऑफ पोल्स में भी केंद्र में एनडीए की ही सरकार बनने के संकेत मिल रहे हैं।

चाहे एग्जिट पोल हो या फिर सर्वे या फिर EVM की हेराफेरी सभी बातो को लेकर पार्टियों में हंगामा मचा है। अधिकतर पार्टियों का मानना है की बीजेपी सकती है क्यूंकि चुनाव आयोग से लेकर सब कुछ बीजेपी के हाथ में है और वह सबको कंट्रोल कर रही है। परन्तु यह मतगड़ना के बाद ही पता चलेगा की आखिर कौन सी पार्टी अपनी सरकार बनाती है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved