fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

अखिलेश से हारने के बाद बीजेपी के इस नेता पर बना गाना हुआ वायरल

Song-on-BJP-candidate-gone-Viral-after-being-defeated-by-Akhilesh
(Image Credits: The Week)

कहते है की घमंड करने वालो को ठोकर खाने के बाद ही अकल आती है और शायद यही बीजेपी के नेता के साथ भी हुआ। हमे यह नहीं मालूम की उन्हें अक्ल आयी या नहीं परन्तु जिस घमंड के सहारे वह नेतागिरी में उतरे थे वह चूर-चूर हो गया। हम बात कर रहे है भोजपुरी एक्टर दिनेश लाल यादव की जिन्हे लोग निरहुआ के नाम से जानते है। उन्होंने भोजपुरी फिल्मो में अपनी गायकी और एक्टिंग के जरिये काफी नाम कमाया और अपने फेन्स बनाये। जिस प्रकार निरहुआ परदे पर लोगो के बीच धमाल मचाते रहे उसी तरह वह राजनीति में भी धमाल मचाने उतरे थे।

Advertisement

राजनीति में निरहुआ आये जरूर परन्तु वह साथ में अपने घमंड को भी लेकर आये। भाजपा में शामिल होने के बाद से ही निरहुआ ने कई ऐसे बयान दिए जिनसे वह सुर्ख़ियों में बने रहे। आजमग़ढ में निरहुआ को अखिलेश यादव के खिलाफ उतारा गया था। निरहुआ चुनाव को लेकर इतने उत्साहित थे की उन्होंने यह तक कह दिया की उन्हें हारने वाला आज तक पैदा नहीं हुआ।

परन्तु चुनाव के नतीजे के बाद आजमगढ़ में समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिली करारी हार के बाद भोजपुरी एक्टर दिनेश लाल यादव की काफी किरकिरी हो रही है। लोग सोशल मीडिया पर उनको काफी ट्रोल कर रहे हैं। इस बीच उनकी हार को लेकर बना गाना भी सोशल मीडिया पर जोरों से वायरल हो रहा है। मजेदार बात यह है कि इस गाने को एक बच्चे ने गाया है। गाने में निरहु के घमंड चूर होने की बात कही गई है। चुनाव से पहले दिनेश लाल अपनी जीत को लेकर काफी आश्वस्त थे। वह अखिलेश को आसानी से हरा देने की बात कहते थे। यही कारण है कि उनके आलोचनाओं की झड़ी लग गई है।

गाने इस प्रकार के बोल दिए गए है- ‘जनता के जनमत मंजूर हो गईल निरहु के घमंड देखा चूर हो गईल। कइला मनोरंजन भरपूर हो गईल निरहु घमंड तोहार चूर हो गईल। फर्जी चौकीदारी में हो गईला अंधा, उल्टा-सीधा बोलत रहला हो गईला ठंडा। देस-परदेस में इ शोर हो गईल जनता के जनमत मंजूर हो गईल।’ इस वीडियो को अब तक 1 लाख से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं।

निरहुआ अपनी जीत को लेकर कॉन्फिडेंट थे। इस बात को वह अपने इंटरव्यू में भी कही थी। उन्होंने कहा था- ‘मुझे हराने वाला कोई पैदा नहीं हुआ है। क्योंकि मैं स्वतंत्र आदमी हूं। मेरी विचार धारा स्वतंत्र है मैं किसी का गुलाम नहीं हूं। मैं ईश्वर के लिखे हुए लेख को भी हटा और मिटा सकता हूं। अगर मैं अपनी सोच रखता हूं। विचार रखता हूं। मैं किसी के पीछे घूमने वाला व्यक्ति नहीं। इसलिए भूल जाइए कि मुझे कोई हरा सकता है। मैं धर्म और सच के साथ हूं तो इस देश को लूटने वाले मुझे हरा नहीं सकते।’ दूसरीओर चुनाव में अखिलेश यादव ने निरहुआ को 2 लाख से ज्यादा मतों के अंतर से हराया है। यह काफी बड़ी हार मानीं जा रही है। जिसकी उम्मीद उन्हें नहीं थी।


अब घमंड टूटा या नहीं वह तो खुद निरहुआ जानते है परन्तु यह बात साफ़ है घमंड के कारण ही वह अपने चुनाव में हार गए। नए नए भाजपा में हुए शामिल निरहना ने आते ही काफी सुर्खियां बटोर ली थी परन्तु वह भूल गए की अखिलेश को उनके ही गड में हराना नामुमकिन है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved