fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

बीजेपी सांसद ने गांव वालो को दिया भड़काऊं बयान, कहा- वन विभाग के कर्मचारी उनकी भूमि पर पौधे लगाते हैं तो उन्हें रोकिये

The-BJP-MP-gave-an-inflammatory-statement-to-the-villagers,-said- If-the-forest-department-employees -plant-in-their-land,-stop- them
(image credits: Maharashtra Today)

एक बार फिर भाजपा के सांसद ने कानून की धज्जियां उड़ा दी। अपने विवादित बयान से बीजेपी के सांसद सुर्ख़ियों में घिर गये है। सभी यह जानते है की बीजेपी सबसे मजबूत पार्टी है, मजबूत पार्टी होने के चलते बीजेपी के लोग पूरा फायदा भी उठाते है। इसलिए वह कही भी कुछ भी बयान दे सकते है। यहीं नहीं किसी पर भी कोई भी कार्यवाही कर सकते है चाहे उससे देश का नुक्सान क्यों न हो रहा हो।

Advertisement

मामला तेलंगाना के आदिलाबाद का है जहाँ भाजपा सांसद सोयम बापू राव अपने एक विवादित बयान दिया है जिसकी वजह से वह सुर्खियों में है। सांसद पर आदिवासियों को भड़काने का आरोप लगा है। आरोप है कि उन्होंने आदिवासियों से कहा कि अगर वन विभाग के कर्मचारी उनकी “पोडू की खेती” के लिए उपयोग की जाने वाली भूमि पर पौधे लगाते हैं तो उन्हें जबरन रोकिये। भाजपा नेता का बयान ऐसे समय में सामने आया है जब करीब एक महिना पहले ही प्रदेश में वृक्षारोपण अभियान के तहत वन विभाग की महिला अधिकारी के साथ ग्रामीणों ने दुर्व्यवहार किया था।

सोयम बापू राव ने शनिवार 20 जुलाई, 2019 को उतनूर मंडल में आदिवासी नेता और हक्कुला पोरता समिति के संस्थापक सिद्धम शंभु की पुण्यतिथि पर आयोजित एक कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए कहा, ‘हरिता हरम वृक्षारोपण परियोजना के तहत लगाए गए पौधों को पोडू की जमीन से उखाड़ फेकिए।’ पोडू आदिवासियों द्वारा खेती करने का एक तरीका है।

जनसत्ता खबर के अनुसार भाजपा नेता ने आगे कहा, ‘वन अधिकारियों द्वारा पोडू भूमि में वृक्षारोपण कार्य में बाधा डालिए और उनके द्वारा लगाए गए पौधों को उखाड़ डालिए। अगर हिंसा की जरुरत पड़े तो कीजिये, बाद में मैं देख लूंगा। वन विभाग के अधिकारियों के बारे में चिंता करने की जरुरत नहीं है।’ एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें भाजपा नेतायह विवादित बयान देते हुए नजर आ रहे है।

दरअसल आदिलाबाद के जंगल की जमीन पर आदिवासी समाज के लोग अपना दावा करते रहे हैं। आदिवासी ये दावा इसलिए करते हैं क्योंकि वो पोडू के जरिए जिंदगी काट रहे है। मगर इसकी वजह से बहुत सी जमीन बंजर रह जाती है। ऐसे में वन विभाग के अधिकारी उन जमीनों पर पेड़ लगा रहे हैं, मगर आदिवासी समाज को लगता है कि उनकी जमीनों को छीनने की कोशिश की जा रही है। ऐसे में भाजपा सासंद का फर्ज बनता है की वह आदिवासी लोगो को इस गलतफहमी से दूर कर के उनकी मदद करे ना की उन्हें उकसाये।


प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव पर आदिवासियों को दबाने की कोशिश करने का आरोप लगाते हुए भाजपा सांसद ने कहा, ‘आदिवासियों और तुदुम देबबा कार्यकर्ताओं को सतर्क रहना होगा और उन्हें सीएम की योजनाओं के खिलाफ लड़ना होगा।

एक बार फिर बीजेपी पार्टी की पोल खुल गयी है। जहाँ देश में एक समाज सेवक की जरूरत है तो वही सांसद लोगो को भड़काने का काम कर रहे है। ऐसे में लोगो पर इसका बुरा असर पड़ सकता है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved