fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

योगी आदित्यनाथ, चुनावी भाषणों से ध्रुवीकरण करने की कोशिश तो करी लेकिन नहीं जुटा पाए जरूरी वोट

Yogi-Adityanath,-tried-to-polarize-with-election-speeches-but-did-not-grab-enough-vote
(Image Credits: The Indian Express)

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के नतीजे सबके सामने आ चुके हैं। सभी पार्टी द्वारा अपने स्तर पर इन चुनावों के लिए खूब मेहनत करी गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्य्मंत्री योगी आदित्यनाथ की बतौर स्टार प्रचारक की डिमांड रही।

Advertisement

उन्होनें 20 से 25 दिनों तक यूपी से बाहर रहकर राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश से लेकर तेलंगाना तक में प्रचार किया। इसके दौरान उनके चुनावी भाषणों से कई बार विवाद पैदा हुए। ये कहा कहा गया की योगी आदित्यनाथ चुनाव में भाजपा के लिए ध्रुवीकरण की कोशिशों में जुटे हैं। इससे वोटों के लिहाज से लाभ मिल सकता था परन्तु ऐसा नहीं हुआ। इसके नतीजे उन सभी राज्यों में भाजपा को हार का सामना करना पड़ा, जहां उन्होनें कैंपेनिंग करी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले एक महीने में तीन राज्यों में 26 रैलियों में हिस्सा लिया उन्होंने छत्तीसगढ़ में 6, मध्य प्रदेश में 9 और राजस्थान में 11 चुनावी रैलियों को संबोधित किया।

योगी आदित्यनाथ ने तेलंगाना में विधानसभा चुनाव में प्रचार करते समय कहा था कि यदि भाजपा ने तेलंगाना में सरकार बनाई तो वह लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हुए हैदराबाद का नाम भाग्यनगर और करीमनगर जिले का नाम बदलकर ‘करीपुरम’ कर देगी।

योगी आदित्यनाथ ने करीमनगर जिले और निजामाबाद जिले के बोधन नगर में चुनावी रैली को सम्बोधित करते हुए कहा, ‘यदि भाजपा तेलंगाना में सत्ता में आई तो वह आपकी भावनाओं का सम्मान करते हुए करीमनगर का नाम बदलकर ‘करीपुरम’ करेगी।


योगी ने कहा कि अगर बीजेपी सरकार बनाती है तो हैदराबाद का नाम बदलकर ‘भाग्यनगर’ कर दिया जायगा जैसे आपने उत्तर प्रदेश में देखा हमने फ़ैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या और इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया। इस पर भी विवाद पैदा हुआ था।

इसके बाद उन्होनें कहा था कि अगर तेलंगाना में औवेसी की सरक़ार बनी तो औवेसी को हैदराबाद छोड़कर भागना पड़ेगा। इसके साथ योगी ने मध्य प्रदेश के भोपाल में एक रैली को सम्बोधित करते हुए एमपी कांग्रेस प्रमुख कमलनाथ के मुस्लिम वोट वाले बयान पर चुटकी ली थी।

कमलनाथ ने कथित तौर पर कहा था कि, ‘पार्टी को राज्य के 90 मुस्लिम वोट चाहिए। ‘ इस बयान पर योगी ने निशाना साधते हुए कहा, ‘कांग्रेस को केवल मुस्लिम वोटों की जरूरत है. कमलनाथ जी आप अपना अली रखिए, हमारे लिए बजरंग बली काफी है.’

योगी आदित्यनाथ ने राजस्थान में चुनाव प्रचार के दौरान हनुमानजी को दलित बता दिया था। जिसको लेकर अभी भी हंगामा मचा हुआ है। हालांकि भाजपा ने कहा की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान को मीडिया द्वारा दूसरे तरीके से पेश किया गया है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved